पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

जासूसी मामले में शिंदे पर भड़की भाजपा

सज्जन कुमार की याचिका खारिज

नई दिल्ली. 3 दिसंबर 2013

सज्जन कुमार


सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार द्वारा दायर याचिका खारिज कर दी. याचिका में उन्होंने इन मामलों में अपने ऊपर लगे आरोपों को रद्द करने की मांग की थी.

मंगलवार को सुनवाई के दौरान वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने सर्वोच्च न्यायालय को बताया कि सज्जन कुमार के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 (हत्या) का मामला दर्ज नहीं किया जा सकता क्योंकि उनके खिलाफ हत्या के ऐसे कोई प्रत्यक्ष आरोप नहीं हैं. लेकिन उनकी दलील के बावजूद न्यायमूर्ति एक.के. पटनायक और न्यायमूर्ति वी. गोपाल गौड़ा की पीठ ने याचिका को खारिज कर दिया.

दंगा पीड़ितों की तरफ पेश हुए वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने इस याचिका का विरोध करते हुए कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के सुल्तानपुरी इलाके में दंगा सज्जन कुमार के आदेश पर हुआ था. दवे ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सज्जन कुमार ने ही दंगाइयों का नेतृत्व किया था और उन्हें भड़काया था.

अदालत ने सज्जन कुमार की उस दलील को स्वीकार नहीं किया कि उन्होंने सुल्तानपुरी इलाके में 1 नवंबर 1984 को दंगा भड़काने के आरोप में 153-ए के तहत सुनवाई का सामना कर चुके हैं और उसी इलाके में उसी आरोप के लिए दोबारा सुनवाई अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 300 की बंदिश का उल्लंघन होगा.

सज्जन कुमार ने दिल्ली उच्च न्यायालय के 16 जुलाई के आदेश को चुनौती दी थी. उच्च न्यायलय ने आरोप तय करने को दी गई उनकी चुनौती को खरिज कर दिया था और कहा था कि वे अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 300 के तहत संरक्षण नहीं पा सकते. इस धारा के तहत कहा गया है कि एक अपराध के लिए सजा पाने या बरी होने वाले किसी व्यक्ति को दोबारा उसी आरोप में सुनवाई का सामना नहीं करना पड़ेगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in