पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

चारा घोटाले में लालू को जमानत

चारा घोटाले में लालू को जमानत

नई दिल्ली. 13 दिसंबर 2013

लालू यादव


चारा घोटाला मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को सर्वोच्च न्यायालय से शुक्रवार को जमानत मिल गई. सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी.सतशिवम और न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की खंडपीठ ने लालू को अन्य दोषियों को दी गई जमानत के आधार पर ही जमानत दी है. इस प्रकार 70 दिन रांची की बिरसा मुंडा कारावास में बिताने के बाद लालू की रिहाई का रास्ता अब साफ हो गया है.

अपने फैसले में न्यायालय ने कहा कि लालू प्रसाद को दी गई पांच साल की सजा में से एक साल दो अलग-अलग चरणों में पूरे हो चुके हैं, जिसमें सुनवाई के दौरान 10 महीने का कारावास और दोषी पाए जाने के बाद से दो महीने का कारावास शामिल है. इससे पहले इस मामले के 44 दोषियों में से 37 को पहले ही जमानत मिल चुकी है और छह अन्य की याचिका पर निचली अदालत में विचार किया जा रहा है.

बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में गत 30 सितंबर को लालू यादव को दोषी ठहराया गया था और फिर 3 अक्टूबर को पांच साल कारावास और 25 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई थी. फैसले आने के बाद लालू ने सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई किसी अन्य न्यायालय में कराने की मांग की थी लेकिन इस याचिका को खारिज कर दिया गया था.

गौरतलब है कि बिहार में करोड़ों रुपए का चारा घोटाला 1996 में सामने आया था जिसमें तात्कालिक मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव पर आरोप हैं. नवंबर 2000 में झारखंड के अलग होने के दौरान 61 में से 54 मामले झारखंड स्थानांतरित कर दिए गए थे. केन्द्रीय जांच ब्यूरो की अलग-अलग विशेष अदालतें 43 से ज्यादा मामलों पर फैसला सुना चुकी हैं.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in