पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

राहुल ने लोकपाल पर समर्थन मांगा

राहुल ने लोकपाल पर समर्थन मांगा

नई दिल्ली. 14 दिसंबर 2013

राहुल गांधी


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को राजनीतिक पार्टियों से अपील की कि वे लोकपाल विधेयक को पारित कराने में एकजुटता दिखाएं. मुख्यालय में वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और कानून मंत्री कपिल सिब्बल और प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रभारी राज्य मंत्री वी. नारायणसामी के साथ संवाददाताओं से मुखातिब राहुल ने कहा कि यह 'राष्ट्रीय महत्व' का मामला है और यह 'भ्रष्टाचार के मुद्दे को पूरी तरह बदल कर रख देगा’.

राहुल ने अंजाम तक पहुंच चुके विधेयक को विजय रेखा के पार लाने में अन्य पार्टियों से 'एक प्रतिशत' समर्थन मांगा. उन्होने कहा, "हमारा काम भ्रष्टाचार से लड़ने वाला बुनियादी ढांचा तैयार करने का है और वह हमने किया है..अन्ना उपवास कर रहे हैं, यही उनका दृष्टिकोण है. हमारा काम एक शक्तिशाली लोकपाल विधेयक देना है और इसके लिए हमें राजनीतिक दलों से एक प्रतिशत आगे आने की दरकार है. और मुझे पूरा विश्वास है कि यदि हम मिलकर काम करें तो हम इसे कर सकते हैं."

राहुल ने कहा कि, "विधेयक पर हमारी व्यापक सहमति है. कांग्रेस पार्टी इस विधेयक का पूरा समर्थन करती है और हम चाहते हैं कि विपक्षी पार्टी और अन्य दल हमारे साथ मिलकर इसे संसद में पारित कराने में हमारी मदद करें." उन्होंने कहा कि 'राष्ट्रीय महत्व' के विधेयक को पारित कराने में 'सभी पार्टियों को अपनी चिंताओं को किनारे रख कर हमें समर्थन देना चाहिए.'

लोकपाल विधेयक को लोकसभा में दिसंबर 2011 में पारित किया जा चुका है और सोमवार को राज्यसभा में इसपर चर्चा होगी. यदि सत्र विस्तार नहीं किया जाए तो संसद का शीतकालीन सत्र 20 दिसंबर को समाप्त होना है अगले वर्ष के शुरू में ओने वाले आम चुनावों से पूर्व का यह संभवत: अंतिम सत्र भी हो सकता है.

अगले वर्ष फरवरी में अल्पकालिक सत्र बुलाया जाएगा जिसका उद्देश्य लेखानुदान मांग पारित कराना होगा ताकि नई सरकार का गठन होने तक यूपीए सरकार की व्यय जरूरतें पूरी हो सके.

राहुल ने कहा, "मेरी नजर में अत्यंत महत्वपूर्ण इस विधेयक को यदि सभी पार्टियों का समर्थन मिले तो हम उसे पारित कराने में कामयाब होंगे."

उन्होंने आगे कहा, "ऐसा नहीं है कि हम विधेयक को पारित नहीं कराना चाहते हैं. हम काम कर रहे हैं. यह भ्रष्टाचार से निपटने में काम करेगा और आरटीआई की ही तरह यह भी भ्रष्टाचार से लड़ाई में एक हथियार होगा."