पहला पन्ना >मुद्दा > Print | Share This  

भाजपा समलैंगिकता के विरोध में

भाजपा समलैंगिकता के विरोध में

नई दिल्ली. 15 दिसंबर 2013

भाजपा


भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने समलैंगिकता से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धारा 377 को सही ठहराते हुए हाल ही में आए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का समर्थन किया है. यह धारा समलैंगिकता को अपराध मानती है. 

एक अखबार को दिए साक्षात्कार में भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने समलैंगिकता को अप्राकृतिक बताया और कहा कि उनकी पार्टी धारा 377 को जायज़ ठहराती है.

गौरतलब है कि इसी धारा से जुड़े एक मामले में 11 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली उच्च न्यायालय के 2009 के उस फैसले को दरकिनार कर दिया, जिसमें वयस्क समलैंगिकों के बीच के यौन संबंधों को आपराधिक गतिविधि से बाहर कर दिया गया था.

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के आने के बाद समलैंगिक कार्यकर्ताओं ने भी इसका विरोध किया था और इसे अपनी स्वतंत्रता पर हमला बताया था.

वैसे ये पहला मामला है कि जब भाजपा का कोई नेता इस मुद्दे के बारे में खुल कर बोला हो, इससे पहले भाजपा नेता अपना रुख साफ करने से अब तक बचते रहे हैं. वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के कई शीर्ष नेतओं ने समलैंगिकता को सही बताते हुए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध किया था.