पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

जनता की सलाह से निर्णय लेगी आप

जनता की सलाह से निर्णय लेगी आप

नई दिल्ली. 17 दिसंबर 2013

आप


आम आदमी पार्टी (आप) दिल्ली में सरकार गठन के मुद्दे पर पहले आम जनता के बीच जाएगी और उनसे मिले जवाबों के अनुसार ही कुछ निर्णय लेगी. पार्टी ने इस प्रक्रिया के लिए रविवार शाम तक की अवधि निर्धारित की है. पार्टी इसके लिए सोशल मीडिया, वेबसाइट पोल, फोन और एसएमएस जैसे साधनों का इस्तेमाल कर रही है.

आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि रविवार शाम तक जनता से रायशुमारी का काम पूरा कर लिया जाएगा, और उसके अनुसार सोमवार को राज्यपाल को इस मुद्दे पर पत्र दिया जाएगा.

केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस ने आपको सरकार बनाने में समर्थन देने की बात कही है. लेकिन उसे भेजे गए पत्र में शामिल 18 मुद्दों में से 16 मुद्दों को उसने प्रशासनिक मुद्दा बताया है और सिर्फ दो मुद्दे पर समर्थन के लिए तैयार है. केजरीवाल ने यह भी बताया कि भाजपा ने पत्र का जवाब नहीं दिया है और कहा है कि वे इस पत्र का कोई जवाब देंगे भी नहीं.

केजरीवाल ने कहा कि पार्टी की ओर से जनता को एक पत्र लिखा जा रहा है. पत्र की 25 लाख प्रतियां दिल्ली की जनता को भेजी जाएंगी. उन्होंने कहा कि जनता अपनी राय एसएमएस, फोन के जरिए और पार्टी की वेबसाइट और फेसबुक पेज के जरिए दे सकती है.

आप नेता ने कहा कि सभी विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के उम्मीदवार नगरनिगम वार्डो में जाकर जनसभा करेंगे और वहां यह पत्र पढ़ कर सुनाएंगे और जनता की राय मांगेंगे. केजरीवाल के अनुसार रायशुमारी की यह पूरी प्रक्रिया रविवार शाम तक पूरी कर ली जाएगी और जनता की राय पर अंतिम निर्णय की घोषणा सोमवार को की जाएगी.

गौरतलब है कि आप ने उपराज्यपाल नजीब जंग से सरकार गठन का निमंत्रण मिलने पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष राजनाथ सिंह के नाम एक पत्र लिखा था. पत्र में 18 मुद्दों पर दोनों दलों की राय मांगी गई थी. कांग्रेस ने सोमवार को पत्र का जवाब दे दिया, लेकिन भाजपा की तरफ से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.