पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

दिल्ली में होगी आप की सरकार

दिल्ली में होगी आप की सरकार

नई दिल्ली. 23 दिसंबर 2013

आप


पिछले पंद्रह दिनों के अनिश्चितता के दौर को खत्म करते हुए सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) ने यह घोषणा कर दी कि पार्टी दिल्ली में सरकार बनाएगी. पार्टी के मुख्य संयोजक अरविंद केजरीवाल दिल्ली के नए मुख्यमंत्री होंगे. केजरीवाल ने इसके लिए दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है.

आम आदमी पार्टी (आप) ने पांच दिनों तक सरकार बनाने के लिए जनमत सर्वेक्षण किया जिसके बाद सोमवार केजरीवाल ने घोषणा की कि दिल्ली की जनता ने व्यापक पैमाने पर सरकार बनाने के पक्ष में समर्थन दिया है. पार्टी ने मनीष सिसोदिया ने भी बताया कि उनकी 280 में 257 सभाओं में लोगों ने आप को सरकार बनाने के पक्ष में राय दी और जनमत संग्रह में मिले 523000 एसएमएस में 74% लोगों ने भी पार्टी को सरकार बनाने की राय दी.

आप के सरकार बनाने के ऐलान के बाद केजरीवाल ने घोषणा की है कि शपथ ग्रहण समारोह राजघाट, जंतर-मंतर या रामलीला मैदान में किया जा सकता है. हालांकि, उन्होंने कहा कि लेफ्टिनेंट गवर्नर से बात करने के बाद ही तय किया जाएगा कि कहां पर शपथ ग्रहण की जाए. केजरीवाल ने मुख्यमंत्री के रूप में मिलने वाली सुरक्षा को भी ठुकरा दिया है.

इधर आप की घोषणा के बाद उनकी सहयोगी पार्टी कांग्रेस ने उन्हें अपनी शुभकामनाएं दी और मतदाताओं से किए गए वादों को पूरा करने को कहा. वहीं इस फैसले से चिढ़ी हुई भाजपा ने आप के फैसले की आलोचना की और इसे जनता के साथ धोखे की संज्ञा दी है. भाजपा नेता हर्षवर्धन ने आरोप लगाया है कि सत्ता के लिए आप ने भ्रष्ट कांग्रेस से हाथ मिला लिया है.

वहीं आप पार्टी के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इसे अलोकतांत्रिक तरीको से बनी सरकार बताते हुए कहा है कि उन्हें उम्मीद नहीं है कि ये सरकार बहुत दिनों तक चलेगी. भूषण ने कहा, 'कांग्रेस पार्टी के पिछले ट्रैक रेकॉर्ड को देखते हुए मुझे उम्मीद नहीं है कि हमारी सरकार लंबे समय तक चल पाएगी. एक महीना चलेगी, चार महीना चलेगी या छह महीने चलेगी, देखना होगा'