पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

जासूसी कांड की जाँच करने आयोग जल्द

जासूसी कांड की जाँच करने आयोग जल्द

नई दिल्ली. 26 दिसंबर 2013

modi


भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के लिए मुश्किलें बढ़ाते हुए केंद्र सरकार ने गुजरात की एक महिला आर्किटेक्ट की जासूसी के मामले में जाँच आयोग के गठन को मंजूरी दे दी है. बुधवार को कैबिनेट ने इस फैसले पर मुहर लगा दी. इस मामले में नरेंद्र मोदी और उनके करीबी अमित शाह पर जासूसी कराने के आरोप हैं.

जासूसी कांड की जांच के लिए बनाए जाने वाले जांच आयोग की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज करेंगे. फिलहाल इस जांच के लिए कोई समय सीमा नहीं तय की गई है लेकिन आगामी लोकसभा चुनावों से पहले इसके आने की पूरी संभावना है.

केंद्र सरकार के इस फैसले से भाजपा बिफर उठी है. पार्टी प्रवक्ता निर्मला सीतारमण ने इसे कांग्रेस की अपने राजनीतिक विरोधियों को दबाने की साजिश बताते हुए कहा कि मोदी को इस मामले में पहले ही क्लीनचिट मिल चुकी है, फिर उस मामले की जांच कराकर कांग्रेस क्या साबित करना चाहती है? वहीं भाजपा नेता अरुण जेटली ने इसे संघीय व्यवस्था पर हमला बताते हुए कहा कि पार्टी इस आयोग के गठन के फैसले को कोर्ट में चुनौती देगी.

उल्लेखनीय है कि न्यूज़ पोर्टल कोबरा पोस्ट और गुलेल ने एक स्टिंग ऑपरेशन के जरिए यह दावा किया था कि गुजरात के तत्कालीन गृह राज्य मंत्री अमित शाह पर अपने 'साहेब' के लिए बेंगलूरु की एक आर्किटेक्ट युवती की जासूसी कराते थे. इसके बाद कांग्रेस ने मोदी पर आरोप लगाया था कि अमित शाह के साहेब वहीं हैं.