पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

केजरीवाल ने पुलिस के खिलाफ हल्ला बोला

केजरीवाल ने पुलिस के खिलाफ हल्ला बोला

नई दिल्ली. 20 जनवरी 2013

kejriwal


दिल्ली पुलिस के कुछ अफसरों को सस्पेंड किए जाने की मांग कर रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सोमवार को रेल भवन के सामने धरने पर बैठ गए. केजरीवाल अपने ममंत्रिमंडल के कई मंत्रियों और समर्थकों के साथ नॉर्थ ब्लॉक (गृह मंत्रालय) पर धरना देने जा रहे थे तभी पुलिस ने उन सबको रेल भवन के पास रोक दिया. इसके बाद केजरीवाल वहीं धरने पर बैठ गए.

केजरीवाल ने धरने की घोषणा करते हुए यह भी कहा कि उनकी तैयारी अगले 10 दिनों तक धरना प्रदर्शन करने की है और इस दौरान उनकी सरकार का सारा कामकाज सडक से ही होगा. धरना शुरु करने के बाद केजरीवाल ने कहा कि 'दोपहर 12 बजे तक गणतंत्र दिवस रिहर्सल परेड खत्म होने का इंतजार करूंगा.'

धरने पर बैठने के बाद केजरीवाल ने दिल्ली सरकार पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि दिल्ली की पुलिस इतनी भ्रष्ट है कि वो रेहड़ीवालों और खोमचेवालों तक से रिश्वत लेती है. उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस किसी भी मामले में जल्द कार्रवाई नहीं करती और हर रिपोर्ट के लिए उसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि बिना पुलिस की मिलीभगत के कोई ड्रग्स या सेक्स रैकेट नहीं चल सकता है.

उन्होंने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस के एसएचओ कहते है पैसे देकर आया हूं, तबादला करवा कर दिखाओ और पुलिस अपराधियों से मिल जाती है और वे जनता की सुनने की बजाए उनपर दादागिरी दिखाते हैं. इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर इस कदम से अराजकता फैली है तो उसके लिए केंद्र सरकार ही दोषी

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस के मंत्री राखी बिडलान और सोमनाथ भारती के अनुरोध पर केजरीवाल ने गृहमंत्री शिंदे से दिल्ली पुलिस के चार अफसरों को चार अफसरों को संस्पेंड करने का मांग की थी जिसके बाद शिंदे ने कहा था कि जाँच के बाद ही कोई एक्शन लिया जाएगा. इसके बाद केजरीवाल ने सोमवार से धरने पर जाने की बात कही थी.

केजरीवाल के इस कदम की कांग्रेस और भाजपा ने आलोचना की है और इसे अराजकतावादी कदम बताया है वहीं गृहमंत्री सुशील शिंदे ने कहा है कि केजरीवाल को अपने पद की गरिमा का ध्यान रखना चाहिए.