पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या 12 हुई

सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या 12 हुई

नई दिल्ली. 30 जनवरी 2013

गैस सिलेंडर


केंद्र सरकार ने रसोई गैस उपभोक्ताओं को चुनावी तोहफा देते हुए सब्सिडी दर पर मिलने वाले सिलेंडरों की संख्य़ा मौजूदा 9 से 12 करने का फैसला किया है.

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) द्वारा लिया गया यह फैसला अगले वित्त वर्ष यानी अप्रैल महीने ले लागू होगा और इससे सरकार पर 5,000 करोड़ रुपये के आसपास अतिरिक्त सब्सिडी बोझ पड़ेगा.

पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली ने फैसले की जानकारी देते हुए संवाददाताओं से कहा, "2013-14 में सब्सिडी वाले नौ सिलेंडरों के अतिरिक्त फरवरी में एक और मार्च में एक और सिलेंडर सब्सिडी पर दिए जाएंगे."

उन्होंने कहा, "अप्रैल 2014 से सब्सिडी पर हर साल 12 सिलेंडर दिए जाएंगे. यानी हर महीने एक सिलेंडर दिया जाएगा."

गौरतलब है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इस महीने के शुरू में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के एक सत्र में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अनुरोध किया था कि सब्सिडी वाले सिलेंडरों की अधिकतम संख्या 12 की जाए.

मोइली ने कहा कि सीमा बढ़ाने से इस मद में कुल खर्च 80 हजार करोड़ रुपये हो जाएगा और इससे 99.2 फीसदी उपभोक्ताओं की सालाना जरूरत पूरी हो जाएगी.

मोइली ने कहा, "सब्सिडी पर दिए जाने वाले कुल सिलेंडरों की संख्या 95.29 करोड़ हो जाएगी और 800 रुपये प्रति सिलेंडर की सब्सिडी दर से (सब्सिडी पर) कुल खर्च 80 हजार करोड़ रुपये होगा."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in