पहला पन्ना >राजनीति >पाकिस्तान Print | Share This  

मुशर्रफ हाजिर हो

मुशर्रफ हाजिर हो

इस्लामाबाद. 1 फरवरी 2014

परवेज मुशर्रफ


पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ एक बार फिर से गिरफ्तार किये जा सकते हैं. मुशर्रफ के खिलाफ सुनवाई कर रही पाकिस्तान की अदालत ने एक वारंट जारी किया है और मुशर्रफ के देश से बाहर जाने पर भी रोक लगा दिया है. तीन न्यायधीशों की पीठ ने मुशर्रफ के उपचार के लिये विदेश जाने की योचिका को भी खारिज कर दिया.

इस मुद्द पर मुशर्रफ के वकील फैसल चौधरी ने कहा कि हम आदेश का अध्ययन करेंगे और अगर कोई गैरकानूनी बात है तो हम चुनौती देंगे. चौधरी ने कहा कि अदालत के पास पास गृह मंत्रालय की एक्जिट कंट्रोल लिस्ट से मुशर्रफ का नाम हटाने का अधिकार नहीं है क्योंकि यह सिर्फ हाईकोर्ट कर सकता है. इस सूची में शामिल व्यक्ति विदेश नहीं जा सकता है. हालांकि चौधरी ने इससे इंकार किया कि मुशर्रफ गिरफ्तार किये जा सकते हैं.

गौरतलब है कि जनरल परवेज मुशर्रफ ने 1998 में नवाज शरीफ का तख्ता पलट कर पाकिस्तान की सत्ता पर कब्जा किया था और लगातार उन्होंने 2008 तक पाकिस्तान पर शासन किया. इससे पहले 2001 में मुशर्रफ ने खुद को पाकिस्तान का राष्ट्रपति घोषित कर दिया था. लेकिन 2008 में देश में बनते राजनीतिक दबाव के कारण वे पाकिस्तान से खुद ही निर्वासित हो कर लंदन और दुबई में रह रहे थे. इसके बाद मार्च 2013 में वे पाकिस्तान लौटे थे, जहां उनके खिलाफ कई मामले शुरु कर दिये गये.

पिछले महीने मुशर्रफ को रावलपिंडी के आर्म्ड फोर्सेज इंस्टीट्यूट ऑफ कॉर्डियोलॉजी में भर्ती कराया गया था. इसके बाद से उनकी तबीयत खराब है.