पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

मुकेश की गोदी में राहुल और मोदी-केजरीवाल

मुकेश की गोदी में राहुल और मोदी-केजरीवाल

नई दिल्ली. 24 फरवरी 2014

अरविंद केजरीवाल


रैलियों के रविवार में अरविंद केजरीवाल, नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी जम कर गरजे. देश के एक बड़े हिस्से में बादल गरज रहे थे तो दूसरी ओर ये नेता. मोदी पंजाब में, राहुल गांधी उत्तराखंड में और अरविंद केजरीवाल हरियाणा में जब बोले तो उसकी गूंज देश के दूसरे हिस्सों में भी सुनाई दी. चर्चा का दौर सोमवार तक जारी रहा.

हालांकि मोदी केवल हमला करते रहे और हमेशा की तरह गुजरात के साथ भाषण वाली जगह रिश्ता जोड़ने में ही गुजार दिया. वहीं राहुल गांधी की सभा में अपनी सफाई और घोषणाएं हावी थीं. लेकिन इन सब पर भारी पड़े अरविंद केजरीवाल. केजरीवाल की सभा की भीड़ देखने लायक थी. भीड़ और उसका उत्साह दोनों, मोदी और राहुल पर भारी पड़े.

नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि जब राजीव गांधी देश में राज कर रहे थे तो पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक उनका राज था. तब राजीव गांधी ने कहा था कि दिल्ली से एक रुपया निकलता है तो गांव तक पहुंचते पहुंचते 15 पैसे हो जाता है. मैं पूछना चाहता हूं कि वो कौन सा पंजा था जो रुपए को घिस कर 15 पैसे में बदल देता है. मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में एबीसीडी कांग्रेस की पहचान बन गई है. जैसे, ए फॉर आदर्श घोटाला, बी फॉर बोफोर्स घोटाला और सी फॉर कोयला घोटाला.

दूसरी ओर राहुल गांधी ने देहरादून में भाजपा पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने कहा कि विपक्ष खून की राजनीति करता है. पूरा हिंदुस्तान एक है सिर्फ़ चुने हुए लोग देश को बांटने में लगे हुए हैं और एक को दूसरे से लड़ाने में लगे हुए हैं. राहुल गांधी ने कहा कि अब हम स्वास्थ्य का अधिकार लाएंगे.

अरविंद केजरीवाल की रैली इन दोनों सूरमाओं से कही बड़ी थी. अरविंद भी सफाई देते रहे और हमला बोलते रहे. उन्होंने कही कि मैंने नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी से पूछा कि आप जो हेलिकॉप्टर इस्तेमाल करते हैं ये किसके हैं और आप इनका किराया देते हैं या मुफ़्त में इस्तेमाल में करते हैं. हमें इसकी जवाब नहीं मिला. उन्होंने कहा कि मुकेश अंबानी की गोद में राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी बैठे हुये हैं और मुकेश अंबानी सरकार चला रहे हैं. उन्होंने कहा कि अंबानी, मोदी और कांग्रेस उपाध्यक्ष की रैलियों के लिए धन दे रहे हैं. उन्होंने इस दौरान मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी के स्विस बैंक के एकाउंट नंबर की भी घोषणा की.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ये कहते हैं हमें सरकार चलानी नहीं आती. मैं चैलेंज करता हूं जितने काम हमने करके दिखाए हैं किसी और ने कर के दिखाए हों तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मेरे पास मुकेश और अनिल दोनों के स्विस बैंक के एकाउंट नंबर हैं, क्या मोदी के अंदर उनका धन देश में वापस लाने की हिम्मत है.. केजरीवाल ने कहा कि मैंने मोदी को पत्र लिखकर पूछा था कि अगर उन्हें सत्ता मिलती है तो क्या वह गैस की कीमत कम करेंगें. लेकिन मुझे अब तक उन्होंने कोई उत्तर नहीं दिया.

तीनों नेताओं की चर्चा रविवार की शाम चलती रही. रात तारी होने तक. सोमवार की सुबह बारी थी प्रतिक्रियाओं की. लेकिन अधिकांश प्रतिक्रियायें चले हुये कारतूस की शक्ल में सामने आईं. नेताओं के पास कहने को नया तो था ही नहीं, नए जुमले भी नहीं थे. लेकिन बातों का क्या, भारत जैसे देश में, जहां 70 करोड़ लोग एक समय भूखे रहते हैं, वहां बातें ही तो चलती हैं, सो बातें चलती रहीं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in