पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

नीतीश ने पीएम बनने तोड़ा गठबंधन

नीतीश ने पीएम बनने तोड़ा गठबंधन

पूर्णिया. 10 मार्च 2014

मोदी


भाजपा के पीएम इन वेटिंग नरेंद्र मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री और अपने पूर्व सहयोगी नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री बनने की चाहत में बिहार में अच्छा चल रहा भाजपा-जदयू गठबंधन तोड़ दिया. उन्होंने राजद अध्यक्ष लालू यादव के हालिया बयान पर चुटकी लेते हुए कहा कि लोकतंत्र गठबंधन से चलेगा, लठबंधन और भ्रष्टबंधन से नहीं.

पूर्णिया के रंगभूमि मैदान में सोमवार को आयोजित बिहार की तीसरी हुंकार रैली में मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत मिथिलांचल की मैथिली भाषा में की. उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद पर जमकर प्रहार किया.

मोदी ने जनता दल-युनाइटेड (जदयू) नेता नीतीश पर प्रहार करते हुए कहा कि बिहार में भाजपा-जदयू गठबंधन की सरकार अच्छी तरह चल रही थी, लेकिन उसे तोड़ दिया गया. उन्होंने कहा, "अब मुझे पता चला है कि गठबंधन क्यों तोड़ा गया."

नीतीश की धर्मनिरपेक्ष छवि बनाने के प्रयास की ओर इशारा करते हुए मोदी ने कहा, "नीतीश बहुत बड़ा सपना पाले हुए हैं. दरअसल वह प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं. वह बेचैन हैं, उन्हें नींद नहीं आ रही है. वह कहते हैं कि उनके जितना योग्य प्रधानमंत्री का उम्मीदवार कोई और नहीं है. लेकिन इतना घमंड अच्छा नहीं है. उनका अहंकार सातवें आसमान पर है."

गुजरात के मुख्यमंत्री ने बिहार को विकसित बनाने के मुद्दे पर कहा कि भारत का यह हिस्सा पिछड़ा हुआ है. जब तक देश के हर हिस्से का विकास नहीं होगा, तब तक भारत मजबूत नहीं बन सकता.

मोदी ने कहा कि आज तक सभी लोगों ने मुसलमानों को वोट के नाम पर छला है. बिहार में 38 प्रतिशत ग्रामीण मुसलमान गरीब हैं लेकिन गुजरात में सिर्फ सात प्रतिशत मुसलमान गरीब हैं. बिहार में शहरी मुसलमान समुदाय का प्रति व्यक्ति खर्च 550 रुपये है जबकि गुजरात में यह खर्च 875 रुपये है.

उन्होंने गुजरात की धर्मनिरपेक्षता को सच्ची धर्मनिरपेक्षता बताते हुए बिहार के लोगों से आह्वान किया, "आप वोट बैंक की राजनीति के कुचक्र से बाहर निकलें. विकास की राजनीति के लिए वोट करें."

मोदी ने कहा कि आज तीसरे मोर्चे वाले बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं, मगर जब बिहार की कोसी में प्रलंयकारी बाढ़ आई थी, तब वे कहां थे. उन्होंने कहा कि बिहार में अजकल फिर अराजकता का माहौल है, लेकिन दावे बड़े-बड़े किए जा रहे हैं. न तो राज्य सरकार और न केंद्र सरकार को आपके, आपके परिवार और आपके बच्चों की चिंता है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in