पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

बाबरी विध्वंस सुनियोजित था: कोबरापोस्ट

बाबरी विध्वंस सुनियोजित था: कोबरापोस्ट

नई दिल्ली. 4 अप्रैल 2014

बाबरी विध्वंस


समाचार पोर्टल कोरबापोस्ट.कॉम ने एक स्टिंग ऑपरेशन के जरिए ने खुलासा किया है कि अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने के पीछे 'उन्मादी भीड़' का हाथ नहीं था, बल्कि इसके लिए पहले से ही साजिश रची गई थी. स्टिंग आपरेशन के मुताबिक साजिश कुछ इस तरह रची गई कि सरकारी एजेंसियों को भनक भी नहीं लगी.

कोबरापोस्ट ने शुक्रवार को स्टिंग ऑपरेशन जारी कर कहा, "दो हिंदू संगठनों विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और शिव सेना ने यह साजिश रची थी, लेकिन संयुक्त रूप से नहीं. 6 दिसंबर को कार्यरूप देने से पहले दोनों संगठनों ने एक योजना के तहत अपने कैडरों को प्रशिक्षित किया था."

कोबरापोस्ट ने कूटनाम “आपरेशन जन्मभूमि” के तहत की गई जांच के आधार पर दावा किया है कि यह भीड़ के उन्माद का नहीं बल्कि अत्यंत गुप्त तरीके से रची गई तोड़फोड़ की साजिश का नतीजा थी. इस साजिश की भनक सरकारी एजेंसियों को भी नहीं लग सकी.

न्यूज पोर्टल के एक पत्रकार ने राम जन्मभूमि आंदोलन की अग्रिम पंक्ति में सक्रिय रहे 23 नेताओं का साक्षात्कार लिया. ये नेता विवादित ढांचा ढहाने में या तो साजिश रचने वाले या उसे अंजाम देने वाले के रूप में संलिप्त रहे थे. जिन लोगों का साक्षात्कार लिया गया उनमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की नेता उमा भारती, कल्याण सिंह और विनय कटियार शामिल हैं. इन नेताओं ने ढांचा ढहाए जाने से संबंधित घटनाओं के बारे में बातें कीं.


विवादित ढांचा ढहाने के मामले की जांच करने के लिए गठित लिब्राहन आयोग ने इनमें से 15 की ओर संकेत भी किया है.

एक संवाददाता सम्मेलन में कोबरापोस्ट के संपादक अनिरुद्ध बहल ने रिकार्ड किए गए साक्षात्कार को सुनाया जिसमें भाजपा, विहिप और शिव सेना के कुछ कद्दावर नेताओं ने दावा किया कि यह अभियान उनके कुछ स्वयंसेवकों ने सघन पशिक्षण और अभ्यास के बाद अंजाम दिया.

स्टिंग में दावा किया गया कि विहिप की युवा शाखा बजरंग दल ने गुजरात के सूरखेज में और शिव सेना ने मध्य प्रदेश के भिंड और मुरैना में प्रशिक्षण दिया.

इसमें दावा किया गया है कि आंदोलन में शामिल लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर और आचार्य धर्मेद्र सरीखे अग्रणी नेताओं के सामने लाखों कारसेवकों को शपथ दिलाई गई थी.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in