पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

हाईकोर्ट के शरण में अमित शाह

हाईकोर्ट की शरण में अमित शाह

लखनऊ. 9 अप्रैल 2014

अमित शाह


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अमित शाह ने अपने भड़काऊ भाषण पर हुई प्राथमिकियों के मद्देनज़र संभावित गिरफ्तारी से बचने के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय की शरण ली है. इस मामले में उच्च न्यायालय गुरुवार को सुनवाई करेगा.

संभावित गिरफ्तारी से बचने के लिए शाह ने बुधवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकियों को रद्द करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की है.

न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार और निर्वाचन आयोग से बयान की सीडी मांगी है. न्यायालय गुरुवार दोपहर शाह की याचिका पर सुनवाई करेगा. माना जा रहा है कि न्यायालय बयान की सीडी देखने के बाद प्राथमिकी रद्द करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग पर फैसला लेगा.

गौरतलब है कि शाह ने बीते दिनों बिजनौर और शामली में जाट समुदाय के लोगों से इस चुनाव में बदला लेने के लिए कहा था. इस मामले में दोनों जिलों में शाह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है.

राजनीतिक दलों की शिकायत पर निर्वाचन आयोग ने उत्तर प्रदेश सरकार से बयान का वीडियो तलब कर शाह से इस पर 9 अप्रैल तक स्पष्टीकरण मांगा था.

शाह की तरफ से बचाव में चुनाव आयोग से कहा गया कि बदला लेने के लिए कहने का उनका मतलब बदलाव से था. शाह ने उत्तर प्रदेश सरकार पर बयान के वीडियो में छेड़छाड़ करने का भी आरोप लगाया.