पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

कारगिल पर कुछ गलत नहीं कहा: आज़म

कारगिल पर कुछ गलत नहीं कहा: आज़म

लखनऊ. 9 अप्रैल 2014

आज़म खान


समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आज़म खान कारगिल युद्ध के बारे में दिए गए अपने विवादास्पद बयान पर कायम हैं. उन्होने इस बयान को सही बताते हुए कहा है कि अगर कारगिल में मुसलमान जवान शहीद हुए हैं तो उनके योगदान की बातें किसी को क्यों गलत लग रही हैं.

आज़म ने कहा, "हम इस जंग में अपने योगदान का जिक्र करते हैं तो फासिस्ट ताकतों को बुरा लगता है. अगर हम कहते हैं कि हम मुल्क की सरहदों की हिफाजत करेंगे, तो हमें शहादत के दर्जे से भी महरूम रखा जाता है."

अपनी सफाई में उत्तरप्रदेश के शहरी विकास मंत्री आजम ने यह भी कहा है कि आरएसएस जैसी फासिस्ट ताकतें आजादी के बाद से ही यह साबित करने की कोशिश में जुटी हुई हैं कि मुसलमानों का देश की आजादी और तरक्की में कोई योगदान नहीं है. देश के मुसलमानों का यह दुर्भाग्य है कि उन्हें अपनी देशभक्ति को लेकर सफाई देनी पड़ती है, जिसके जिम्मेदार फासिस्ट हैं

उल्लेखनीय है कि उत्तरप्रदेश के गाज़ियाबाद में मंगलवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए आज़म खान ने कहा था 'जो जवान करगिल की जीत के लिए लड़े वे हिंदू नहीं थे, बल्कि मुसलमान थे.' उन्होने यह भी कहा था कि इस देश की सरहदों की मुसलमानों से बेहतर रक्षा कोई नहीं कर सकता.

आज़म खान के इस बयान का सभी राजनीतिक दलों ने विरोध किया है. भाजपा इस मामलो को लेकर निर्वाचन आयोग से शिकायत कर चुकी है जिसने उस भाषण की वीडियो रिकॉर्डिंग मंगाई है जिसमें आज़म खान ने यह बात कही थी.