पहला पन्ना > कला Print | Send to Friend | Share This 

हुसैन ने स्वीकारी कतर की नागरिकता

हुसैन ने स्वीकारी कतर की नागरिकता

मुंबई. 27 फरवरी 2010


भारत के सुप्रसिद्ध चित्रकार मकबूल फिदा हुसैन ने अंततः कतर की नागरिकता स्वीकार कर ली है. पिछले चार सालों से भारत से बाहर रह रहे 95 साल के हुसैन भारत में कट्टरपंथी संगठनों के निशाने पर थे.

उनके फिल्मकार बेटे ओवाइस हुसैन के अनुसार हुसैन के लिये उम्र के इस पड़ाव में अकेलेपन से निजात पाना जरुरी था. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हुसैन ने एक घोड़े के स्केच की अपनी पेंटिंग पर एक लाइन लिखी है- मुझे, इंडियन ओरिजन का पेंटर एम.एफ. हुसैन को 95 साल की उम्र में कतर की नागरिकता से सम्मानित किया गया है.

मकबूल फिदा हुसैन की हिंदू देवी-देवताओं को लेकर बनाई गई पेंटिग को लेकर भारत में पिछले कई सालों से विवाद होता रहा है. उनकी गैलरियों और चित्र प्रदर्शनियों को शिवसेना, बजरंग दल, आरएसएस, विहिप ने कई बार तोड़ा-फोड़ा और जलाया है. इसके अलावा उनके खिलाफ देश की अलग-अलग अदालतों में कई-कई मुकदमें दर्ज कराये जाते रहे हैं.