पहला पन्ना >राज्य >असम Print | Share This  

दंगा पीड़ितों को हथियार नहीं: गोगोई

दंगा पीड़ितों को हथियार नहीं: गोगोई

गुवाहाटी. 5 मई 2014

tarun gogoi


असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने सोमवार को स्पष्ट किया कि उनकी सरकार बोडोलैंड क्षेत्र में आने वाले जिलों में हुई हिंसा से प्रभावित लोगों को आत्मरक्षा के लिए हथियार नहीं देगी. गोगोई ने पिछले दिनों मीडिया में आई इस आशय की खबरों का खंडन करते हुए यह बयान दिया. गुरुवार को असम में हुए सिलसिलेवार आतंकवादी हमलों में अब तक 31 लोगों की जान जा चुकी है.

गोगोई ने कहा, "सरकार ने इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया है."

गोगोई ने आगे कहा कि सरकार संवेदनशील इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षा मुहैया कराएगी. इसके लिए उन इलाकों में पुलिस चौकियां और पुलिस की गश्त बढ़ाई जाएगी, ग्रामीण रक्षा दलों को मजबूत किया जाएगा, शांति समितियों का गठन किया जाएगा तथा सुरक्षा के अन्य उपाय किए जाएंगे.

अखिल बोडोलैंड अल्पसंख्यक विद्यार्थी संघ का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को गोगोई से मिला और 12 सूत्री मांग रखी. उनकी मांगों में आत्मरक्षा के लिए उन्हें हथियार उपलब्ध कराया जाना भी था. हिंसा प्रभावित जिलों बक्सा और कोकराझार में परिस्थितियां धीरे-धीरे सामान्य हो रही हैं, तथा पिछले तीन दिनों से इन इलाकों से किसी तरह की हिंसा की खबर नहीं है.

जिला प्रशासन ने सोमवार को बाकसा, कोकराझार और चिरांग जिलों में सुबह 10 बजे के बाद कर्फ्यू हटा लिया. हालांकि सोमवार को कुछ छात्र संगठनों ने धरना प्रदर्शन का आह्वान किया था, लेकिन इसका क्षेत्र में कोई प्रभाव नहीं दिखा.