पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >खेल > Print | Share This  

आईपीएल-7 खिताब कोलकाता नाइटराइडर्स को

आईपीएल-7 खिताब कोलकाता नाइटराइडर्स को

बेंगलुरु. 1 जून 2014

कोलकाता नाइट राइडर्स


युवा बल्लेबाज मनीष पांडेय (94) की तूफानी पारी और अंतिम क्षणों में पीयूष चावला (नाबाद 13) की साहसिक बल्लेबाजी के चलते कोलकाता नाइट राइडर्स टीम ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के सांतवें संस्करण के फाइनल में किंग्स इलेवन पंजाब को तीन विकेट से हरा दिया. इस तरह से से कोलकाता नाइट राइडर्स ने साल 2012 के बाद दूसरी बार खिताब पर कब्जा किया है.

खिताबी मुकाबले के मैन ऑफ द मैच चुने गए पांडेय और यूसुफ पठान (36) की तूफानी पारियों की बदौलत नाइट राइडर्स ने जीत की स्थिति कायम कर ली थी लेकिन इन दोनों के आउट होने के बाद हालात कुछ कठिन हो चला था. अंतिम 18 गेंदों पर नाइट राइडर्स को 21 रनों की दरकार थी और विकेट पर थे सूर्यकुमार यादव (5) और चावला.

अक्षर पटेल द्वारा फेंके गए 18वें ओवर में 6 रन बने. अंतिम 12 गेंद पर 15 रनों की जरूरत थी. 19वां ओवर में मिशेल जानसन ने दूसरी गेंद पर यादव को मनन वोहरा के हाथों कैच कराकर अपनी टीम को मनोवांक्षित सफलता दिलाई. जानसन ने अगली दो गेंदों पर दो रन दिए लेकिन छठे गेंद पर चालवा ने छक्का लगाकर नाइट राइडर्स की जीत लगभग पक्की कर दी.

अब नाइट राइडर्स को छह गेंदों पर पांच रनों की जरूरत थी. नरेन के पास स्ट्राइक थी. नरेन ने परविंदर अवाना द्वारा फेकें गए अंतिम ओवर की पहली गेंद एक भी रन नहीं लिया. दूसरी गेंद पर वह एक रन लेकर चावला को स्ट्राइक देने में सफल रहे. चावला ने तीसरी गेंद पर चौका लगाकर अपनी टीम को जीत दिला दी. चावला ने पांच गेंदों पर एक चौका और एक छक्का लगाया.

वैसे नाइट राइर्डस के लिए 200 रनों के लक्ष्य को पार पाना आसान नहीं था. टूर्नामेंट में टीम के सबसे सफल बल्लेबाज रहे उथप्पा छह रनों के कुल योग पर मिशेल जानसन की गेंद पर अक्षर पटेल के हाथों लपक लिए गए. गम्भीर ने दूसरे छोर पर तेजी से खेलना जारी रखा.

गंभीर ने पांडेय के साथ स्कोर को 50 के पार पहुंचाया लेकिन 59 रनों के कुल योग पर वह कर्मवीर सिंह की गेंद पर डेविड मिलर के हाथों लपक लिए गए. गम्भीर ने 17 गेंदों पर तीन चौके लगाए.

गम्भीर के आउट होने के बाद यूसुफ पठान (36) विकेट पर आए. पठान और पांडेय ने अगले 7.2 ओवरों तक किंग्स इलेवन के गेंदबाजों की काफी धुनाई की और तीसरे विकेट के लिए 43 गेंदों पर 71 रनों की साझेदारी की. पठान 130 के कुल योग पर 22 गेंदों का सामना कर चार छक्के लगाने के बाद आउट हुए. उनका विकेट कर्मवीर ने लिया.

इसके बाद शाकिब अल हसन (12) विकेट पर आए. शाकिब ने आते ही दो चौके लगाए लेकिन 156 के कुल योग पर वह रन आउट हो गए. रायन टेन डॉशेट (4) से उम्मीद थी कि वह विकेट पर बने रहते हुए पांडेय का साथ दें लेकिन 168 के कुल योग पर डॉशेट कर्मवीर की गेंद पर लपक लिए गए.

पांडेय ने 17वें ओवर की तीसरी गेंद पर डॉशेट के आउट होने के बाद चौथी गेंद पर छक्का लगाया और फिर पांचवीं गेंद पर चौका लगाया लेकिन छठी गेंद पर वह बेले के हाथों लपक लिए गए. पांडेय 50 गेंदों पर सात चौके और छह छक्के लगाए. पांडेय का विकेट 179 के कुल योग पर गिरा.

इससे पहले, टॉस हारने के बाद बल्लेबाजी करने उतरी किंग्स इलेवन टीम ने विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा (नाबाद 115) के शानादर शतक की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में चार विकेट पर 199 रन बनाए. 55 गेंदों पर 10 चौके और आठ चौके लगाने वाले साहा के अलावा मनन वोहरा ने 67 रनों का योगदान दिया.

किंग्स इलेवन की शुरूआत अच्छी नहीं रही. क्वालीफायर्स में चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ शानदार सैकड़ा लगाने वाले सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (7) सस्ते में आउट हो गए. ग्लैन मैक्सवेल के खराब फार्म को ध्यान में रखते हुए कप्तान जॉर्ज बेली (1) खुद तीसरे क्रम पर खेलने पहुंचे लेकिन सुनील नरेन ने उन्हें 30 के कुल योग पर बोल्ड कर दिया.

इसके बाद नाइट राइडर्स के स्पिन गेंदबाजों ने वोहरा और साहा पर नकेल लगाने की कोशिश की और इस प्रयास में वे काफी हद तक सफल भी रहे लेकिन वोहरा और साहा अपना विकेट बचाए रखने में सफल रहे.

12वें ओवर के बाद वोहरा और साहा ने अपने बल्ले का मुंह खोला और अगले चार ओवरों में 15, 10, 19 तथा 20 रन बटोरे. इन्हीं चार ओवरों के दौरान दोनों ने अर्धशतक पूरे किए. साथ ही दोनों के बीच 100 रनों की साझेदारी भी पूरी हुई.

वोहरा ने 42 गेंदों पर पचासा लगाया जबकि साहा ने मात्र 29 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया. 16वें ओवर की तीसरी गेंद पर साहा को जीवनदान मिला. नरेन उन्हें अपनी गेंद पर लपक नहीं सके. साहा और वोहरा ने अपना विस्फोटक अंदाज जारी रखा और उमेश यादव द्वारा फेंके गए 17वें ओवर में 19 रन बटोरे.

वोहरा हालांकि 159 रनों के कुल योग पर पीयूष चावला की गेंद पर छक्का उड़ाने के प्रयास में उन्हीं के हाथों लपके गए. वोहरा ने 52 गेंदों का सामना कर पांच चौके और छह छक्के लगाए. वोहरा और साहा ने तीसरे विकेट के लिए 129 रन जोड़कर अपनी टीम को मजबूती प्रदान की.

वोहरा का स्थान लेने आए मैक्सवेल (0) को चावला ने एक गेंद पर ही चलता कर दिया. मैक्सवेल का विकेट 170 के कुल योग पर गिरा.

नरेन द्वारा फेंके गए 19वें ओवर की दो गेंदों के खाली जाने के बाद साहा ने तीसरी गेंद पर छक्का लगाया और फिर चौथी गेंद पर चौका लगाकर 98 पर पहुंच गए. इसके बाद पांचवीं गेंद पर छक्का लगाकर उन्होंने शतक पूरा किया.

आईपीएल में यह साहा का पहला शतक है. इस साल तीन शतक लगे हैं, जिनमें से दो भारतीयों के नाम हैं. इससे पहले सहवाग ने शतक लगाया था जबकि उससे पहले मुम्बई इंडियंस के लेंडल सिमंस ने 100 (नाबाद) रनों की पारी खेली थी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in