पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

सिसोदिया ने योगेंद्र यादव पर निशाना साधा

सिसोदिया ने योगेंद्र यादव पर निशाना साधा

नई दिल्ली. 6 जून 2014

manish sisodiya


आम आदमी पार्टी (आप) के शीर्ष में चल रही अंतर्कलह अब खुलकर सामने आ गई हैं. पार्टी के संस्थापक सदस्य मनीष सिसोदिया ने वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव को एक ईमेल लिखकर उन पर पार्टी के भीतर राजनीति करने का आरोप लगाया है.

सिसोदिया ने यादव से सवाल किया है कि वे पार्टी मीटिंगों में न आकर ईमेल लिखकर क्या हासिल करना चाहते हैं? सिसोदिया ने यादव से सवाल किया है कि क्या आप पार्टी ख़त्म करना चाहते हैं? नवीन के खिलाफ लड़ाई जीतना चाहते है या अरविंद को ख़त्म करना चाहते हैं?

इस ईमेल में सिसोदिया ने पार्टी के रणनीतिकार योगेन्द्र यादव पर हरियाणा में पार्टी की संभावनाओं को खत्म करने और पार्टी नेतृत्व को भटकाने का भी आरोप लगाया है जिसकी वजह से पार्टी को लोकसभा चुनाव में करारी हाल झेलनी पड़ी.

सिसोदिया ने पत्र में लिखा, 'आपने (योगेन्द्र यादव) चुनाव से ऐन पहले हरियाणा में सर्वे किया और दावा किया कि पार्टी को राज्य में 23 फीसदी वोट मिलेंगे. लेकिन चुनावों में हमें हरियाणा में सिर्फ 4 फीसदी ही वोट मिले. पार्टी इन खराब नतीजों की वजह जानना चाहती है. जवाब देने की बजाय आप इस तरह के झूठे मुद्दे उठाकर ध्यान भटकाना चाहते हैं. आप केजरीवाल को खत्म करना चाहते हैं या फिर आम आदमी पार्टी को?.'

सिसोदिया ने ईमेल में यादव पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अपने और नवीन जयहिंद के बीच का विवाद इसीलिए सार्वजनिक किया है क्योंकि वे इससे निपट नहीं पा रह हैं. सिसोदिया कहते हैं कि केजरीवाल शुरु से ही दिल्ली की राजनीति करना चाहते थे लेकिन यादव ने ही उन्हें देश भर में चुनाव लड़ने को मनाया जिसका नतीजा लोगों के सामने है.

 

पार्टी के इन वरिष्ठ नेताओं की अनबन को देखकर माना जा रहा है कि पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में योगेंद्र यादव का इस्तीफा स्वीकार किया जा सकता है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in