पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

ब्यास नदी में डूबे 24 इंजीनियरिंग छात्र

ब्यास नदी में डूबे 24 इंजीनियरिंग छात्र

शिमला. 9 जून 2014

डूबना


छुट्टियां मनाने हैदराबाद से हिमाचल प्रदेश गए 24 छात्र-छात्राएं मंडी जिले के थलौत इलाके में ब्यास नदी में डूब गए जिनमे से तीन का शव बरामद कर लिया गया है. प्राप्त शवों में दो युवतियों का है जबकि एक शव युवक का है.

अधिकारियों ने बताया कि हैदराबाद के वी.एन.आर.विग्नाना ज्योति इंस्टीट्युट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी की छह छात्राएं व 18 छात्र शनिवार को व्यास नदी की तेज लहर में बह गए थे. माना जा रहा है कि बाकी छात्र-छात्राओं के भी बचने की उम्मीद काफी कम है.

इस संस्थान के कुल 65 छात्र-छात्राएं व शिक्षक मनाली के मनोरम दृश्यों को देखने आए थे. कुछ लोग हंगोई माता मंदिर के नजदीक थलौत इलाके में नदी के किनारे फोटो खिंचवा रहे थे, तभी नदी की लहर नजदीकी पनबिजली परियोजना के लिए छोड़े गए पानी की वजह से तेज हो गई और उन्हें बहा ले गई.

राज्य के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने जांच के आदेश दिए हैं और राज्य विद्युत बोर्ड की 126 मेगावाट लार्जी पनबिजली परियोजना के रेजिडेण्ट इंजीनियर के निलंबन के आदेश दिए हैं. घटना के संबंध में लापरवाही का मामला दर्ज किया गया है. परियोजना स्थल घटनास्थल से चार किलोमीटर आगे है.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in