पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

रेल किरायों में भारी इजाफा

रेल किरायों में भारी वृद्धि

नई दिल्ली. 20 जून 2014

rail


केंद्र सरकार ने शुक्रवार को सभी श्रेणियों के रेलयात्री किराये में 14.2 फीसदी और मालभाड़े में 6.5 फीसदी की वृद्धि की घोषणा की है. बढ़े हुए रेल किराए 25 जून से लागू होंगे. इसके साथ ही जिन यात्रिय़ओं ने 25 जून के बाद की टिकटें बुक करा रखी हैं उन्हें भी सफर के दौरान बढ़ा हुआ किराया देना होगा.

रेल मंत्रालय ने इसके बाबत विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि दरों में संशोधन का फैसला पिछली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए2) सरकार द्वारा प्रस्तुत अंतरिम बजट में ही ले लिया गया था, लेकिन अप्रैल-मई हो रहे चुनाव के कारण लागू नहीं किया जा सका था. इससे पहले रेलमंत्री सदानंद गौड़ा ने गुरुवार को कहा था कि सरकार के पास संसाधनों की कमी है और उसे जुटाना उनकी प्राथमिकता होगी.

मंत्रालय की विज्ञप्ति के मुताबिक, सभी श्रेणियों में 10 फीसदी की मूल किराए में वृद्धि होगी. इसके अलावा, किराये में 4.2 फीसदी की वृद्धि ईंधन समायोजन घटक (एफएसी) के कारण होगी, जो अप्रैल 2014 से ही बकाया है. न्यूनतम दूरी तक किराये में कोई वृद्धि नहीं की गई है.

मोदी सरकार के इस फैसले का विपक्षी पार्टियों ने विरोध किया है. कांग्रेस ने बीजेपी के चुनावी नारे अच्छे दिन आने वाले हैं पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मोदी सरकार का तोहफा मध्यम वर्ग, निम्न मध्यम वर्ग और गरीबों के कंधे पर अतिरिक्त बोझ डाला जा रहा है.

इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस, एआईएडीएमके और बीजू जनता दल जैसी पार्टियों ने भी इस बढ़ोत्तरी को जनता विरोधी बताते हुए सरकार की आलोचना की है और इस बढ़ोत्करी को जल्द से जल्द वापस लेने का मांग की है.