पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

स्कूलों में सेक्स एजुकेशन बंद हो: हर्षवर्धन

स्कूलों में सेक्स एजुकेशन बैन हो: हर्षवर्धन

नई दिल्ली. 27 जून 2014

dr harshvardhan


भारतीय संस्कृति के प्रचार को एड्स रोकने के मामले में कंडोम से बेहतर तरीका बताने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने अब एक और अजीब सुझाव दिया है. डॉ. हर्षवर्धन ने अपनी वेबसाइट drharshvardhan.com पर लिखा है कि स्कूलों में तथाकथित सेक्स एजुकेशन बंद कर देनी चाहिए.

डॉ. हर्षवर्धन ने दिल्ली के स्कूलों के लिए अपने 'विजन डॉक्यूमेंट' में लिखा हैं कि तथाकथित सेक्स एजुकेशन को बैन कर देना चाहिए. उन्होंने सलाह दी है कि पाठ्यक्रम में मूल्यों पर आधारित शिक्षा को बाकी कोर्स के साथ पढ़ाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा है कि छात्रों को भारत के सांस्कृतिक संबंधों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी देनी चाहिए. स्वास्थ्य विभाग ने डॉ. हर्षवर्धन के बयान को उनके निजी विचार बताया है.

इससे पहले भी डॉ. हर्षवर्धन ने एड्स की रोकथाम के लिए कंडोम की जगह भारतीय संस्कृति का प्रचार और संबंधों में ईमानदारी की जरूरत बताई थी. देश के स्वास्थ्य मँत्री के ऐसे बयान का सोशल मीडिया में और सामाजिक संस्थाओं ने काफी विरोध किया था जिसके बाद उन्होंने इस बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया बताया था.