पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

चीन ने की लद्दाख में घुसपैठ

चीन ने की लद्दाख में घुसपैठ

नई दिल्ली. 28 जून 2014

चीन


भारतीय भौगोलिक क्षेत्रों पर बार-बार अपना हक जताते आ रहे चीन ने एक बार फिर लद्दाख में घुसपैठ की है.

चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी 24 जून को पूर्वी लद्दाख के पंगोंग झील के भारतीय हिस्से में साढ़े 5 किलोमीटर अंदर तक घुस आयी थी. घुसपैठ करने के बाद चीनी सेना लगभग 2 घंटो यहां बनी रही.

भारतीय सेना के जवानों के द्वारा आपत्ति जताने के बाद चीनी सेना वहां से गई. चीनी सेना के जवान इससे पहले भी पंगोंग झील पर घुसपैठ कर चुके हैं. 134 किलोमिटर लंबी इस झील का ज्यादातर हिस्सा तिब्बत में पड़ता है जिसके चलते वह पहले से ही चीन के कब्जे में है.

चीन की ये हालिया घुसपैठ एक ऐसे समय हुई है जब भारत के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी चीन के दौरे पर गए हुए हैं.

इसके अलावा हाल ही में अमरीकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट में प्रकाशित चीन के नक्शे में अरुणाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के काफी बड़े इलाके को अपनी सीमा के अंतर्गत दिखाया है.

गौरतलब है कि चीन इससे पहले भी अरुणाचल प्रदेश के कई इलाकों पर अपना हक जताता आया है और कई बार इन इलाकों में घुसपैठ भी कर चुका है.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

SANTOSH KUMAR PATEL [santoshkp786@gamil.com] BHILAI, (C.G.) - 2014-06-29 12:07:49

 
  Respected PM sir,please do some thing otherwise we will compairing you with old PM. we know that you always take fav\'red of china, but this time take a dec\'n and show all over world, India will not keep silenced for all that. Thanks you sir
 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in