पहला पन्ना >फ़िल्म > Print | Share This  

जोहरा सहगल पंचतत्व में विलीन

जोहरा सहगल पंचतत्व में विलीन

नई दिल्ली. 10 जुलाई 2014

johra sehgal


अपने जिंदादिल अंदाज के लिए पहचाने जानी वाली भारतीय फिल्म और रंगमंच की प्रसिद्ध अभिनेत्री जोहरा सहगल का अंतिम संस्कार शुक्रवार को किया गया. 102 वर्ष की जोहरा सहगल का निधन दिल्ली के मैक्स अस्पताल में गुरुवार अपराह्न 4.30 बजे दिल का दौरा पड़ने से हो गया था.

भारतीय सिनेमा की सबसे बुजुर्ग अभिनेत्री जोहरा सहगल दक्षिणी दिल्ली के मंदाकिनी एवक्लेव में बेटी किरण सहगल के साथ रह रही थीं. उन्होंने 2011 में दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर एक घर देने की मांग की थी. जोहरा सहगल को निमोनिया की शिकायत होने पर बुधवार को दक्षिण दिल्ली के साकेत में स्थित मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था..

पद्म विभूषण से सम्मानित जोहरा सहगल ने 'हम दिल दे चुके सनम', 'दिल से', और 'सांवरिया' जैसी 20 से अधिक बॉलीवुड फिल्मों में काम किया.

जोहरा ने अपने करियर की शुरुआत एक डांसर और डांस निर्देशक के रूप में शुरू की थी. जोहरा थिएटर को अपना पहला प्यार मानती थी. वहीं से उन्होंने अभियन की कई बारिकियां सीखीं. जोहरा ने पृथ्वीराज कपूर के पृथ्वी थिएटर में करीब 14 साल तक काम किया.

जोहरा ने पृथ्वीराज कपूर से लेकर रणबीर कपूर तक, बॉलीवुड के मशहूर कपूर परिवार की चार पीढ़ियों के साथ काम किया था. उनकी उम्र हाल तक उनके उत्साह पर हावी नहीं हो पाई थी. जोहरा को विशेष रूप से 'भाजी ऑन द बीच' (1992), 'हम दिल दे चुके सनम' (1999), 'बेंड इट लाइक बेकहम' (2002), 'दिल से.'(1998) और 'चीनी कम' (2007) जैसी फिल्मों में बेहतरीन अभिनय के लिए जाना जाता है. उनकी आखिरी फिल्म 'सांवरिया' थी.

जोहरा सहगल का जन्म 27 अप्रैल, 1912 को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुआ था. देहरादून के पास चकराता में पली-बढ़ीं जोहरा को भारत सरकार ने वर्ष 1998 में पद्मश्री और वर्ष 2010 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया था.

जोहरा लंबे समय तक भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) से भी जुड़ी रहीं. उदय शंकर के साथ उन्होंने जापान, मिस्र, यूरोप और अमेरिका सहित कई देशों में अपने नृत्य कार्यक्रम पेश किए थे. वह काफी दिनों तक ब्रिटेन में रहीं और अंग्रेजी फिल्मों में भी काम किया.

वह पहली ऐसी भारतीय हैं, जिसने सबसे पहले अंतर्राष्ट्रीय मंच का अनुभव किया. जोहरा सहगल को वर्ष 1998 में पद्मश्री, 2001 में कालिदास सम्मान, 2004 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया था.