पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

इतिहास नष्ट नहीं कर रहे: राजनाथ

इतिहास नष्ट नहीं कर रहे: राजनाथ

नई दिल्ली. 14 जुलाई 2014

राजनाथ सिंह


केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि संसद सदस्यों को गृह मंत्रालय द्वारा फाइलें नष्ट किए जाने को लेकर सरकार की मंशा पर संदेह नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि फाइलें नष्ट करना नियमित प्रक्रिया है, और पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने भी ऐसा किया था.

राजनाथ ने केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा कुछ फाइलों को नष्ट करने पर उठे सवालों के जवाब में राज्यसभा में यह बात कही. उन्होंने कहा, "फाइलें नष्ट करने को लेकर सरकार की मंशा पर संदेह न करें. हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे जो इतिहास के साथ छेड़छाड़ होगा."

विभिन्न रपटों के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 1.5 लाख फाइलें नष्ट की है. सांसदों ने इसी संदर्भ में उनसे स्पष्टीकरण मांगा था. गृह मंत्री ने कहा कि नष्ट की गई कोई भी फाइल ऐतिहासिक महत्व की नहीं थी.

उन्होंने कहा, "मैं गृह मंत्री और नरेंद्र मोदी सरकार का हिस्सा होने के नाते आश्वस्त कर सकता हूं कि इतिहास को नष्ट नहीं किया जा रहा है."


मार्क्सयवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के पी.राजीव ने पिछले सप्ताह सवाल उठाया था, जिसके बाद राजनाथ ने शुक्रवार को बयान दिया था कि केवल 11,100 फाइलों को नष्ट किया गया है और इनमें से कोई भी महात्मा गांधी की हत्या से जुड़ी फाइल नहीं थी.

केंद्रीय गृह मंत्री की ओर से सोमवार को स्पष्टीकरण आने से पहले विभिन्न विपक्षी पार्टियों के राज्यसभा सदस्यों ने सवाल उठाए थे कि ऐतिहासिल फाइलों को तो नष्ट नहीं किया गया. साथ ही उन्होंने इतिहास को फिर से लिखने की कोशिश करने के आरोप भी लगाए.

राजनाथ ने कहा कि फैसला जल्दबाजी में नहीं लिया गया है और 500 से अधिक लोग फाइलों के छांटने में शामिल रहे हैं. मंत्री ने कहा कि सरकार नष्ट की गईं फाइलों का ब्यौरा सांसदों के साथ साझा करने के लिए तैयार है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in