पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >फ़िल्म > Print | Share This  

प्रियंका ने मेरी कॉम को आत्मसात किया

प्रियंका ने मेरी कॉम को आत्मसात किया

मुंबई. 26 जुलाई 2014

प्रियंका चोपड़ा


फिल्मकार संजय लीला भंसाली का कहना है कि उनकी आगामी फिल्म 'मेरी कोम' में अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने ओलंपिक विजेता मुक्केबाज एम. सी. मेरी कॉम की आत्मा को अपने किरदार में आत्मसात कर लिया है.

भारत की शीर्षस्थ महिला मुक्केबाज मेरी कॉम पर बनी फिल्म मेरी कॉम के ट्रेलर पर दर्शकों की प्रतिक्रिया को देखकर अभिभूत हैं लेकिन वे यह भी स्वीकार करते हैं कि फिल्म में मेरी कोम का किरदार निभा रही प्रियंका उनसे शारिरिक तौर पर मेल नहीं खातीं, लेकिन उन्होंने मेरी कोम की भूमिका से न्याय किया है.

भंसाली ने कहा, "हम फिल्म के माध्यम से मेरी कोम की कहानी बताना चाहते थे. उनके जीवन में नाटकीयता, जुनून, साहस, जोश, हास्य सबकुछ रहा है. उनकी कहानी पर्दे पर आने का इंतजार कर रही थी. मैं खुद को गौरवान्वित महसूस करता हूं कि इस काम को हमने अंजाम दिया."

एम. सी. मेरीकोम की जीवनी पर बनी फिल्म 'मेरी कोम' पांच सितंबर को रिलीज होने वाली है. इस फिल्म के ट्रेलर में प्रियंका एक समर्पित मुक्के बाज के रूप में नजर आ रही हैं. मेरी कोम के रूप में प्रियंका का मणिपुरी शैली में संवाद बोलना, बॉक्सिंग रिंग में जंगली बिल्ली की तरह अपने प्रतिद्वंद्वी पर टूट पड़ना और रिंग के बाहर जिंदगी में विरोधियों का सामना करना कहीं से भी अभिनय की अतिशयोक्ति नहीं लगती.

भंसाली ने कहा, "अब जब फिल्म पूरी हो गई है, तो ऐसा लग रहा है कि प्रियंका के अलावा मेरी कोम का किरदार कोई और निभा ही नहीं सकता था. उसने उस किरदार को जिया है. उसने किरदार के रग-रग को आत्मसात किया है."
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in