पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

जल्द बंद किए जाएंगे आरटीओ ऑफिस

जल्द बंद किए जाएंगे आरटीओ ऑफिस

पुणे. 18 अप्रैल 2014

नितिन गडकरी


केंद्र सरकार देशभर के रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (आरटीओ) को बंद करने की योजना बना रही है. केंद्र सरकार जल्द ही एक नया कानून ला कर रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (आरटीओ) को खत्म करेगी और उसकी जगह नई व्यवस्था बनाएगी.

केंद्रीय परिवहन नितिन गडकरी ने कहा है कि देशभर के आरटीओ ऑफिसों में कोई काम नहीं हो रहा है और वहां सिर्फ भ्रष्टाचार होता है. उनका कहना है कि ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर आरटीओ को जुर्माना करना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं होता है.

पुणे में एक कार्यक्रम में बोलते हुए गडकरी ने कहा 'ऐसे कई कानून और व्यवस्थाएं हैं जो पुराने पड़ चुके हैं या अपनी प्रासंगिकता खो चुके हैं. आरटीओ जैसी व्यवस्थाएं जल्द ही खत्म कर दी जाएंगी. आरटीओ की कोई जरूरत नहीं है. हमने एक कानून तैयार कर लिया है जिसे जल्दी ही पेश किया जाएगा.'

गडकरी ने बताया कि ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर लगाम कसने के लिए नई डिजिटल व्यवस्था लाई जाएगी. नियम तोड़ने वालों के घर पर पहले नोटिस आएगा. वह इस नोटिस के खिलाफ कोर्ट जा सकते हैं लेकिन वहां केस हारने पर उसे तीन गुना जुर्माना देना होगा.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ROOP LAL JAISINGANI [indian9300854300@gmail.com] BHILAI - 2014-08-19 09:08:45

 
  BILKUL SAHI, IS STEP SE NETAO KA DAKHAL KAM HOGA,AUR IMANDARI KI KADAR HOGI 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in