पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

चौटाला को अदालत में पेश होने का आदेश

चौटाला को अदालत में पेश होने का आदेश

नई दिल्ली. 09 अक्टूबर 2014

चौटाला

दिल्ली हाइकोर्ट ने सीबीआई की शिकायत पर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला को शुक्रवार को अदालत में हाजिर होने का निर्देश दिया है. इन दिनों जमानत पर चल रहे चौटाला पर सीबीआई ने जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है और अदालत से उनके समर्पण की तय तारीख 17 अक्टूबर से पहले ही उनकी जमानत रद्द करने का आग्रह किया है.

दिल्ली हाइकोर्ट में न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल ने गुरुवार को चौटाला को नोटिस जारी कर उन्हें अदालत में संदेह हाजिर होने के लिए कहा है.

यह उल्लेख किए जाने के बाद कि इलाज के नाम पर जमानत लेने के बाद चौटाला हरियाणा में 15 अक्टूबर को होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए सक्रिय रूप से रैलियां करते फिर रहे हैं, अदालत ने कहा, "मैं दुख के साथ इस बात (शर्त उल्लंघन) से अवगत हूं. यह न्यायपालिका को ठेंगा दिखाने जैसा है."

गौरतलब है कि हरियाणा में शिक्षक भर्ती घाटाले में चौटाला को सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी करार दिया था और 10 वर्ष कैद की सजा सुनाई थी. वे दिल्ली की तिहाड़ जेल में अपनी सजा काट रहे हैं.

सीबीआई की वकील राजदीप बेहुरा ने अदालत से कहा कि अदालत से अनुमति लिए बगैर चौटाला हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार में जुटे हैं और रैलियां कर चौटाला ने अदालत का मजाक उड़ते फिर रहे हैं और कहते हैं, "कोई मुझे छू भी नहीं सकता."

बेहुरा ने अदालत से कहा, "यह तो 'यदि पकड़ सको तो पकड़ के दिखाओ' जैसी स्थिति है." उन्होंने अदालत से अंतरिम जमानत की शर्तो का उल्लंघन करने के लिए चौटाला के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आग्रह किया है.