पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

आंध्र के तटों पर हुदहुद ने दी दस्तक

आंध्र के तटों पर हुदहुद ने दी दस्तक

विशाखापटनम. 12 अक्टूबर 2014

तूफान


बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान हुदहुद ने रविवार को विशाखापत्तनम के पास आंध्र तट को पार किया. यह अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान दोपहर के आसपास विशाखापत्तनम से लगभग 50 किलोमीटर दूर पुदिमाडका गांव में तट को पार करने लगा. इसके प्रभाव से आंध्र और ओडीशा के तटवर्ती इलाकों में तेज आंधी और भारी बारिश हो रही है.

इस तूफान के चलते विशाखापत्तनम में एक व्यक्ति की मौत दीवार गिरने से हो गई, जबकि दूसरे व्यक्ति की मौत श्रीकाकुलम जिले में पेड़ गिरने से हुई. इसके अलावा एक और व्यक्ति की भी मौत हो गई है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने हैदराबाद में संवाददाताओं से कहा कि तूफान का नेत्र तट पार कर चुका है, लेकिन पूरे तूफान को पार करने में तीन-चार घंटे लग सकते हैं. तूफान की जानकारी देने वाले राडार से संपर्क टूट जाने के कारण प्रशासन को तूफान की गति और उसके प्रभाव के बारे में जानकारी मुहैया कराने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है.

नायडू ने कहा कि नौसेना ने जानकारी दी है कि तूफान का नेत्र पार हो चुका है और आंधी की रफ्तार 185 किलोमीटर प्रति घंटा है. उन्होंने कहा, "चूंकि संपर्क तंत्र ध्वस्त हो चुका है लिहाजा हमारे पास नुकसान के आंकलन का कोई तंत्र नहीं है."

विशाखापत्तनम, श्रीकाकुलम, विजयानगरम जिले शनिवार रात से ही भारी बारिश और तेज आंधी की चपेट में हैं. इसके परिणामस्वरूप निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं, पेड़ उखड़ गए, बिजली आपूर्ति और संपर्क टूट गए हैं.

उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजयानगरम और विशाखापत्तनम जिलों तथा पास के ईस्ट गोदावरी और वेस्ट गोदावरी तटीय जिलों में प्रशासन हाई अलर्ट पर है, क्योंकि तूफान के भारी तबाही मचाने की आशंका है.  राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की नौ टीमें, सेना की दो टुकड़ी, छह हेलीकॉप्ट और 56 नौकाएं राहत एवं बचाव अभियान के लिए तैयार हैं.