पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

शिवसेना के निशाने पर पीएम मोदी

शिवसेना के निशाने पर पीएम मोदी

मुंबई. 14 अक्टूबर 2014
 

शिवसेना

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनावों की वोटिंग से एक दिन पहले मंगलवार को शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि लोकसभा चुनाव में शिवसेना के समर्थन के बिना भाजपा को नरेंद्र मोदी के पिता दामोदरदास मोदी भी बहुमत नहीं दिला पाते.

पार्टी ने ये भी कहा है कि वह राज्य की जनता को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के छल के बारे में बताएगी. पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में शिवसेना ने कहा है, "वे (भाजपा) जानना चाहते हैं कि हमारा असली शत्रु कौन है? कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) मरे हुए सांप की तरह हैं, जिनसे हमें कोई डर नहीं है. यह हमारे कभी मित्र रहे दल का छल है, जिसे हम महाराष्ट्र की जनता के सामने बेनकाब करेंगे."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के अन्य नेताओं की ओर से स्पष्ट रूप से इशारा करते हुए शिवसेना ने कहा है कि चुनाव प्रचार अभियान के दौरान भाजपा ने महाराष्ट्र की गुजराती आबादी को गुमराह करने का पूरा प्रयास किया. पार्टी ने कहा कि महाराष्ट्र के गुजरातियों की निष्ठा स्वर्गीय बाल ठाकरे के आदर्शो के साथ है और वे शिवसेना का साथ कभी नहीं छोड़ेंगे.

संपादकीय में कहा गया है, "भाजपा शिवसेना को हराने के मिशन में लगी हुई है. देश के प्रधानमंत्री, उनके मंत्रिमंडल के सदस्य, सांसद और उनकी फौज यहां दिन-रात एक किए हुए हैं. हमने उन्हें पाकिस्तान को हराने के लिए देश की गद्दी पर बैठाया था और अब वे उसी पार्टी को मटियामेट करने में लगे हैं, जिसने पाकिस्तान के खिलाफ सबसे कड़ा रुख अख्तियार किया." शिवसेना ने सामना के संपादकीय में इस ओर भी इशारा किया है कि भाजपा ने अपने फायदे के लिए क्षेत्रीय पार्टियों का इस्तेमाल किया है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

sanjay kumar [kumarsanjay.kumar839@gmail.com] ghaziabad - 2014-10-14 16:20:58

 
  नरेंद्र मोदी का बाप जीत दिला सकता था मगर बाला साहब ठाकरे ना क्या कर है बॉंबे मैं दंगा कराना उनकी पसंद थी. ओक मोदी की लहर की वजह से शिव सेना की 18 सीट अा गए थी वेरना ज़ीरों का राउंड मैं घूम रहा था. मलाई खा कर काहे आखें दिखाते हो. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in