पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य > Print | Share This  

रेप के लिए मोबाइल-कपड़े जिम्मेदार: उप्र पुलिस

रेप के लिए मोबाइल-कपड़े जिम्मेदार: उप्र पुलिस

लखनऊ. 30 अक्टूबर 2014
 

रेप

उत्तर प्रदेश पुलिस का मानना है कि रेप की घटनाओं के लिए मोबाइल का पयोग और छोटे कपड़े जिम्मेदार हैं. यूपी पुलिस ने यह बयान आरटीआई कार्यकर्ता लोकेश खुराना के एक सवाल के जवाब मे दिया है.

लोकेश ने उप्र पुलिस से आरटीआई के तहत ये पूछा था कि उप्र में रेप की वारदातें क्यों बढ़ रही हैं. इसके जवाब में पुलिस ने कहा कि पश्चिमी सभ्यता का पहनावा महिलाओं के साथ रेप में बढ़ोतरी की वजह बन रहा है. पुलिस ने ये भी कहा कि महिलाओं के भीड़भाड़ वाले इलाकों में घूमने के चलते भी रेप की घटनाएं बढ़ रही हैं.

यही नहीं यूपी पुलिस के कुछ अधिकारियों ने इन घटनाओं के पीछे चैटिंग, फिल्में, बेरोजगारी, वहशीपन, पद लोलुपता और टीवी सीरियलों को भी जिम्मेदार माना है. वैसे ये पहला मामला नहीं है जब उप्र पुलिस ने ऐसा गैर-जिम्मेदाराना बयान दिया हो. इससे पहले भी उप्र पुलिस के डीजीपी आंद लाल बैनर्जी ने रेप को रुटीन घटना बताया था

यूपी पुलिस के इस बयान का सभी महिला संगठनों ने विरोध किया है और इसे आपत्तिजनक बताया है. यहीं नहीं कांग्रेस नेता शोभा ओझा ने भी उप्र पुलिस पर अपनी जिम्मेदारियों से भागने का आरोप लगाया है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

BN Rawat [bnrawat@rediff.com] Lalitpur - 2014-10-30 17:22:07

 
  It is nothing. At least RTI activist get reply from UP police and the mindset of him. In my case I complaint 5 months back. No action has been taken. I put RTI no action no reply . I appealled then no reply. I think RTI applecant is lucky that UP police give reply of his RTI. In lalitpur UP. No action. no reply of RTI. No FIR.  
   
 

abhishek yadav [abhishek160296@gmail.com] jaunpur - 2014-10-30 17:19:22

 
  बहुत ही घटिया सोचा है और गैरजिम्मेदाराना भी. ऐसे जवाब देने वालो को लिए कोई न कोई सजा जरूर होनी चाहिए. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in