पहला पन्ना >खेल > Print | Share This  

सचिन ने ग्रेग चैपल को बताया रिंगमास्टर

सचिन ने ग्रेग चैपल को बताया रिंगमास्टर

मुंबई. 3 नवंबर 2014
 

सचिन

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच ग्रेग चैपल को रिंगमास्टर बताते हुए कहा है कि वेस्टइंडीज में 2007 में हुए विश्व कप से ठीक पहले चैपल ने उन्हें राहुल द्रविड की जगह टीम का कप्तान बनने की पेशकश की थी. अपनी जीवनी "प्लेइंग इट माई वे" में सचिन को एक ऐसा रिंगमास्टर कहा है जो हमेशा अपने विचार खिलाड़ियों पर थोपने की कोशिश करते थे.

इस जीवनी में सचिन ने बताया है कि ग्रेग चैपल ने कहा, "विश्व कप से कुछ महीनों पहले चैपल हमारे घर आए और यह सलाह दी कि राहुल द्रविड की जगह मैं कप्तान बनूं. हम दोनों अगर चाहें तो लंबे समय तक भारतीय क्रिकेट को नियंत्रित कर सकते हैं."

साथ ही चैपल ने यह भी कहा कि कप्तान बनने में सचिन की मदद करेंगे. सचिन ने आगे लिखा है कि वह और उनकी पत्नी अंजली चैपल द्वारा दी गई पेशकश को सुनकर हैरान रह गए.

सचिन ने कहा, "मैं यह सुनकर हैरान रहा गया कि क्रिकेट के सबसे बड़े टूर्नामेंट से ठीक पहले कोच को मौजूदा कप्तान पर भरोसा नहीं है."

सचिन के अनुसार इस घटना के बाद उन्होंने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को विश्व कप के लिए चैपल को टीम के साथ वेस्टइंडीज नहीं भेजने की भी सलाह दी थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

भारत को उस विश्व कप में बांग्लादेश और श्रीलंका से हारने के बाद ग्रुप वर्ग से ही विश्व कप से बाहर होना पड़ा था. बकौल सचिन, "अगर मैं कहूं कि चैपल की कोचिंग में भारतीय क्रिकेट बिल्कुल भी आगे नहीं बढ़ रह था तो मुझे नहीं लगता मैं गलत हूं."