पहला पन्ना > अंतराष्ट्रीय Print | Send to Friend 

पाक प्रधानमंत्री सरबजीत की माफी के पक्ष में

पाक प्रधानमंत्री सरबजीत को माफ करने के पक्ष में

नई दिल्ली . 10 मई 2008
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ से भारतीय कैदी सरबजीत सिंह की फांसी की सजा माफ करने का सुझाव दिया है. समाचार चैनल सीएनएन-आईबीएन को दिए एक साक्षात्कार में गिलानी ने यह भी कहा कि सरबजीत सिंह के फांसी के मुद्दे पर पाकिस्तान का विदेश मंत्रालय गंभीरता से विचार कर रहा है.


ज्ञात रहे कि भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह पर पाकिस्तान में आतंक फैलाने का आरोप है. सरबजीत को एक विस्फोट का जिम्मेवार बताते हुए 18 साल पहले गिरफ्तार किया गया था. इस विस्फोट में 14 लोगों की मौत हो गई थी.

 

लाहौर की एक अदालत ने सरबजीत को 1991 में फांसी की संजा सुनाई थी, जिसे ऊपरी अदालतों समेत राष्ट्रपति ने भी बहाल रखा.


सरबजीत को पिछले महीने ही फांसी की सजा होनी थी लेकिन पाकिस्तान के मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और भारत सरकार के हस्तक्षेप के बाद सरबजीत की फांसी अगली तारीख तक के लिए टाल दी गई है.


पाकिस्तानी प्रधानमंत्री द्वारा सरबजीत की फांसी की सजा माफ करने के मुद्दे पर पाकिस्तान के मानवाधिकार मंत्री और भारतीय बंदियों की मुक्ति के लिए अभियान चलाने वाले अंसार बर्नी ने कहा कि यह बेहतर संकेत है और सरबजीत खुशकिस्मत हैं.


सरबजीत की बहन दलबिर कौर ने टिप्पणी करते हुए कहा कि यह सब उपरवाले के कारण हो रहा है. हमें सरबजीत की रिहाई की पूरी उम्मीद है. सरबजीत की बेटी पूनम ने कहा कि अगर उनके पिता लौट कर आएंगे तो हमारे लिए वह जिंदगी का सबसे खुशगवार दिन होगा.