पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

रामपाल समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प

रामपाल समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प

हिसार. 18 नवंबर 2014
 

हिसार में विवादित संत रामपाल के सतलोक आश्रम के बाहर मंगलवार को उनके अनुयायियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई हिंसक झड़प में दर्जनों लोग घायल हो गए हैं. इस दौरान पुलिस ने पत्रकारों पर भी लाठीचार्ज किया जिसके चलते कई पत्रकार घायल हो गए.

पुलिस सूत्रों ने कहा कि रामपाल के अनुयायियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां चलाईं और कई पेट्रोल बम भी फेंके. इसके अलावा पत्थरों और ईंटों से भी हमला किया. रामपाल के अनुयायियों के द्वारा पुलिस को आश्रम में घुसने से रोकने के लिए पेट्रोल बम फेंके गए.

आश्रम परिसर की छत से धुआं उठता दिखाई दे रहा था. वहीं, रामपाल के प्रवक्ता ने दावा किया कि वह आश्रम में नहीं हैं, बल्कि हरियाणा से बाहर एक अस्पताल में भर्ती हैं.

पुलिस ने आश्रम में दाखिल होने और बाबा को गिरफ्तार करने के लिए उनके हजारों अनुयायियों पर आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछारें की. पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया.
हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस.एन. वशिष्ठ ने कहा कि आश्रम के मामले से निपटने के बाद मीडिया पर पुलिसिया हमले की जांच कराई जाएगी.

वशिष्ठ ने कहा, "मीडिया पर हमला करने का कोई इरादा या मजबूरी नहीं थी. हम जांच कराएंगे और कार्रवाई करेंगे. हमारे लिए मीडिया को आश्रम के करीब न जाने देना ज्यादा आसान था. हमने 86 संवाददाताओं को घटनास्थल पर जाने की इजाजत दी है." उन्होंने कहा कि रामपाल के अनुयायियों द्वारा चलाई गई गोलियों से दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

यह पूछे जाने पर कि रामपाल कहां है? वशिष्ठ ने कहा, "हमें सूचना मिली है कि वह आश्रम में है. बाबा (रामपाल) को बाहर निकालना और महिलाओं एवं बच्चों को बचाना हमारी रणनीति है. अभियान शुरू हो चुका है और हम उच्च न्यायालय के दिशा-निर्देशों का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in