पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

साध्वी निरंजन ज्योति का इस्तीफा देने से इंकार

साध्वी निरंजन ज्योति का इस्तीफा देने से इंकार

नई दिल्ली. 2 दिसंबर 2014
 

साध्वी निरंजन

केंद्रीय राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करने पर अफसोस जताया है लेकिन साथ ही अपने पद से इस्तीफा देने से मना कर दिया है. गौरतलब है कि प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस इस मुद्दे पर साध्वी निरंजन ज्योति का इस्तीफा मांग रही है

मंगलवार को साध्वी ने अपने बयान को लेकर संसद में जारी तनाव को दूर करने की कोशिश करते हुए लोकसभा में कहा, "मेरा गलत उद्देश्य नहीं था. लेकिन जो शब्द भी मैंने बोले, उस पर मैं अफसोस जताती हूं और जो कहा उसे स्वीकार करती हूं."

साध्वी ने सोमवार को दिल्ली में एक चुनाव रैली में कहा था कि दिल्ली के लोग यह निर्णय कर लें कि वे 'रामजादों' (राम के अनुयायी) की सरकार चाहते हैं या उनकी जो अवैध हैं?

बाद में हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि उनका बयान उनके लिए था, जो राम और एकीकृत भारत में विश्वास नहीं करते. उन्होंने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा कि उनके बयान को सांप्रदायिक रूप नहीं दिया जाना चाहिए.

साध्वी ने कहा, "मैंने किसी व्यक्ति, समुदाय या पार्टी का नाम नहीं लिया. क्या भगवान राम के बारे में बोलना अपराध है? राम के बारे में बात करना सांप्रदायिक कैसे हो सकता है?"

साध्वी के बयान पर कांग्रेस ने मंगलवार को लोकसभा में विरोध जताया, जिसके कारण सदन की कार्यवाही थोड़ी देर के लिए स्थगित करनी पड़ी. इस मुद्दे पर कांग्रेस ने भाजपा को राज्यसभा में भी घेरा है.