पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

पेशावर आतंकी हमले में 160 की मौत

पेशावर आतंकी हमले में 160 की मौत

नई दिल्ली. 16 दिसंबर 2014
 

मनमोहन सिंह

पाकिस्तान के पेशावर शहर के आर्मी स्कूल में हुए आतंकी हमले में मरने वालों की संख्या 160 तक पहुँच गई है. हाल के वर्षों के स सबसे ज्यादा बर्बर हमले में मरने वालों में ज्यादातर छात्र है.

बताया जा रहा है कि अर्धसैनिक फ्रंटियर कोर की वर्दी पहनकर आए आठ से दस अरबी भाषी हमलावर सुबहसाढे दस बजे (स्थानीय समय) वरसाक रोड स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल में घुस गएऔर उन्होंने एक एक कक्षा में जाकर अंधाधुंध गोलियां बरसाईं और मासूमों कीहत्या की.

इस हमले में शामिल छह आतंकवादियों में से चार ने खुद को बम से उड़ा दिया जबकि दो अन्य आतंकियों को सुरक्षाबवलों ने मार गिराने में सफलता पाई. तहरीक – ए – तालिबान ने इस हमले की जिम्मेदारी लेते हुए कहा है कि वे उत्तरी वजीरिस्तान में पाकिस्तानी सेना की कार्रवाई का बदला ले रहे थे.

भारत ने पाकिस्तान के पेशावर स्थित आर्मी स्कूल में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा की है. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हमले की निंदा करते हुए कहा, यहकायराना और अमानवीय हमला आतंकवाद के असली चेहरे को उजागर करता है.

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस मामले पर अपना विरोध जताया है. उन्होंने ट्वीट कर के इसका विरोध किया और लिखा कि "यह एक विवेकहीन और शब्दों में बयान न किया जा सकने वाला आतंकवादी हमलाहै, जिसमें कई निर्दोष स्कूली बच्चों की जान चली गई है. आज जिन लोगों नेअपनों को खोया है मैं उनके साथ हूं. हम उनके दर्द को महसूस करते हैं औरउनके प्रति अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त करते हैं."

 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in