पहला पन्ना > राजनीति > दिल्ली Print | Send to Friend | Share This 

आंध्र के थे नक्सली हमले के मास्टर माइंड

आंध्र के थे नक्सली हमले के मास्टर माइंड

हैदराबाद. 7 अप्रैल 2010


अगर खुफिया सूत्रों के दावों पर यकीन करें तो मंगलवार को छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुये नक्सली हमले को भाकपा माओवादी के सेंट्रल कमेटी के चार सदस्यों ने मिल कर अंजाम दिया, जिसमें सीआरपीएफ के 73 जवान मारे गये थे. इस हमले का नेतृत्व नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के सेंट्रल रिजनल ब्यूरो का मुखिया कटकम सुदर्शन ऊर्फ आनंद कर रहा था.

घटना स्थल से जो कागजात मिले हैं, उससे इस बात की पुष्टि हुई है.

आंध्र प्रदेश के आदिलाबाद जिले के कटकम सुदर्शन के अलावा आंध्र के ही करीम नगर निवासी और दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के सचिव कदरी सत्यनारायण रेड्डी ऊर्फ कोसा, थिपिरी तिरुपति ऊर्फ देवूजी और सेंट्रल रिजनल ब्यूरो के सदस्य मोलोजूला वेणुगोपाल ऊर्फ भूपति इस हमले की रणनीति में शामिल थे. भूपति हाल ही में चर्चा में आये कोटेश्वर राव ऊर्फ किशन जी का भाई है.

53 साल के कटकम सुदर्शन पर 12 लाख रुपये का इनाम है. आदिलाबाद के बेलमपल्ली के एक बुनकर परिवार से संबद्ध सुदर्शन ने वारंगल के पालिटेक्निक से पढ़ाई की है. पिछले 30 साल से नक्सल आंदोलन में सक्रिय इस खूंखार माओवादी नेता के बारे में कहा जाता है कि हमलों की रणनीति बनाने में सुदर्शन का कोई मुकाबला नहीं है. इसकी पत्नी साधना भी संगठन में थी औऱ कुछ साल पहले पुलिस से हुई मुठभेड़ में मारी गई थी.