पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय > Print | Share This  

लखवी को जमानत पर भारत नाराज़

लखवी को जमानत पर भारत नाराज़

नई दिल्ली. 18 दिसंबर 2014
 

लखवी

आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के कमांडर और 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के एक मुख्य आरोपी जकीउर रहमान लखवी को पाकिस्तान की आतंकवाद निरोधी अदालत (एटीसी)  द्वारा जमानत दिए जाने पर भारत ने ऐतराज जताया है.

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तानी कोर्ट के इस फैसले के बाद कहा कि पेशावर में आर्मी स्कूल में बच्चों के कत्लेआम के बाद भी इस तरह का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने यह भी उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान रकार इस आदेश के खिलाफ इससे बड़ी अदालत में अपील करेगी, ताकि मुंबई में हुए 26/11 हमले से जुड़ा मामला किसी तार्किक नतीजे तक पहुंचे.

पाकिस्तानी अखबार 'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) के वकील जमानत के पक्ष में नहीं थे. लेकिन लखवी के वकील रिजवान अब्बासी अदालत में पेश हुए. इसके बाद एटीसी ने लखवी को 5,00,000 रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी.

गौरतलब है कि जकी-उर रहमान लखवी सहित सात लोगों पर मुंबई के 26/11 हमले की साजिश रचने और इसमें मदद करने का आरोप है. इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे.

मामले में छह अन्य आरोपियों के खिलाफ सुनवाई चल रही है. माना जाता है कि 26/11 हमले के वक्त लखवी लश्कर-ए-तैयबा का संचालन प्रमुख था, जिस संगठन पर मुंबई हमले का आरोप है. लखवी और एलईटी का एक अन्य कमांडर जरार शाह इस हमले का मुख्य षडयंत्रकारी माने जाते हैं.

लखवी को फरवरी 2009 में पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था और उसके खिलाफ 25 नवंबर 2009 को अभियोग शुरू किया गया.