पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

वाजपेयी-मालवीय को मिलेगा भारत रत्न

वाजपेयी-मालवीय को मिलेगा भारत रत्न

नई दिल्ली. 24 दिसंबर 2014
 

वाजपेयी और मालवीय

स्वतंत्रता सेनानी मदन मोहन मालवीय और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से विभूषित किए जाने की घोषणा की गई है. राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी बयान के अनुसार, "राष्ट्रपति को पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) और अटल बिहारी वाजपेयी को 'भारत रत्न' से सम्मानित कर खुशी हो रही है."

संयोगवश वाजपेयी और मालवीय का जन्म 25 दिसम्बर को हुआ था. मालवीय का जन्म 25 दिसम्बर, 1861 को इलाहाबाद और वाजपेयी का जन्म 1924 को ग्वालियर में हुआ था. सरकार ने उनके जन्मदिवस को 'सुशासन दिवस' घोषित किया है.

मालवीय ने दो बार कांग्रेस के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाली थी और वह दक्षिण-पंथी हिंदू महासभा के पहले नेताओं में से एक थे. स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिज्ञ के अतिरिक्त वह एक महान शिक्षाविद थे. उन्होंने 1916 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की थी. भारत की आजादी के एक साल पहले उनका निधन हो गया.

वाजपेयी के नेतृत्व में भाजपा ने पहली बार केंद्र में 13 दिन की सरकार बनाई थी. इसके बाद 1998-1999 में तेरह महीनों के लिए और 1999-2004 में पाँच सालों के लिए वाजपेयी भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के प्रधानमंत्री रहे.

90 वर्षीय वाजपेयी गैर कांग्रेसी पार्टी के पहले प्रधानमंत्री थे, जिन्होंने पांच साल का कार्यकाल पूरा किया था. वह 1957 से 2009 के बीच 10 बार लोकसभा के लिए सांसद के रूप में निर्वाचित हुए थे. वाजपेयी को मोरारजी देसाई सरकार में विदेश मंत्री के रूप में काफी प्रसिद्धि मिली थी, जब उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण दिया था.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in