पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

घरवापसी धर्मपरिवर्तन नहीं है: तोगड़िया

घरवापसी धर्मपरिवर्तन नहीं है: तोगड़िया

हैदराबाद. 29 दिसंबर 2014
 

तोगड़िया

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने सोमवार को जहां धर्मातरण को रोकने के लिए कानून की मांग की, वहीं कहा कि 'घरवापसी' को धर्मातरण नहीं कहा जा सकता. विहिप में निर्णय लेने वाले सर्वोच्च विभाग केंद्रीय बोर्ड ट्रस्टी और प्रबंध समिति की यहां संयुक्त बैठक हुई, जिसमें धर्मातरण पर रोक के लिए सरकार से कानून बनाने की मांग की गई.

दो दिवसीय बैठक में लिए गए निर्णय के बारे में संवाददाता सम्मेलन में विहिप के कार्याध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि वे धर्मातरण का विरोध करते हैं, वहीं 'घरवापसी' का स्वागत करते हैं. उन्होंने देश के सभी मुस्लिमों और ईसाइयों से अपील की कि वे अपने 'मूल समुदाय' में लौट आएं. उन्होंने कहा कि इनके पूर्वज हिंदू थे जिन्होंने उत्पीड़न या प्रलोभन की वजह से धर्मातरण किया.

तोगड़िया ने कहा कि वे किसी भी हिंदू को धर्मातरण की अनुमति नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि संविधान भी इसके खिलाफ है और सर्वोच्च न्यायालय ने भी 1977 में इसे स्पष्ट किया था. उन्होंने कहा, "सर्वोच्च न्यायालय ने भी फैसला दिया था कि हिंदुत्व जीवन जीने की शैली है."

तोगड़िया ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति पश्चिमी, चीनी, जापानी जीवन शैली अपनाता है तो इसे धर्मातरण नहीं कहा जा सकता. इसी तरह कोई समूह अगर हिंदू बनता है और हिंदू जीवनशैली अपनाता है तो इसे धर्मातरण नहीं कहा जा सकता.