पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय > Print | Share This  

अमरीका देगा पाक को 25 करोड़ डॉलर

अमरीका देगा पाक को 25 करोड़ डॉलर

इस्लामाबाद. 13 जनवरी 2014
 

जॉन केरी

अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने कहा है कि पाकिस्तान को अमेरिका 25 करोड़ डॉलर की सहायता देगा. यह राशि सैन्य सहायता के लिए दी गई राशि के अतिरिक्त होगी. केरी ने यह भी कहा कि पाकिस्तान को उन आतंकवादी समूहों से लड़ना चाहिए जिनने अफगानिस्तान, भारत तथा अमेरिका के हितों को प्रभावित कर रखा है.

द न्यूज इंटरनेशनल की रपट के मुताबिक, केरी ने कहा कि सहायता राशि अशांत कबायली इलाकों में विस्थापित हुए लोगों के लिए भोजन, आवास तथा अन्य सहायता के लिए दी जाएगी.

पाकिस्तान की यात्रा पर पहुँचे केरी, प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के राष्ट्रीय सुरक्षा एवं विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. इस मौके पर अजीज ने अमेरिका से आग्रह किया कि वह पाकिस्तान को सहायता राशि देना जारी रखे, ताकि उन इलाकों के पुनर्निर्माण में मदद मिल सके, जहां पाकिस्तानी सेना आतंकवादी समूहों से मुकाबला कर रही है.

उन्होंने कहा, "गठबंधन सहायता कोष से राशि मिलने का सिलसिला जारी रहना एक बहुमूल्य मदद है, जो दोनों देशों के हितों के लिए महत्वपूर्ण है." केनी ने कहा, "तमाम आतंकवादियों तथा आतंकवादी समूहों से मुकाबले की महत्ता पर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तथा पाकिस्तान के नेताओं के बीच आपसी सहमति का हम स्वागत करते हैं."

केरी ने कहा, "तमाम आतंकवादी संगठन जैसे तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी), हक्कानी नेटवर्क तथा लश्कर-ए-तैयबा से न केवल पाकिस्तान को, बल्कि अमेरिका तथा पूरी दुनिया को खतरा है."

गौरतलब है कि अमेरिकी नेतृत्व वाले अधिकांश सैनिक पड़ोसी देश अफगानिस्तान में अपना मिशन आधिकारिक तौर पर पूरा कर वापस लौट गए हैं. इसके कारण क्षेत्र में स्थिरता को लेकर चिंता बढ़ गई है. वहीं आतंकवादियों ने भी हमले तेज कर दिए हैं, जिसका नतीजा 16 दिसंबर को पेशावर में आर्मी पब्लिक स्कूल पर हुए हमले के रूप में सामने आया है.

पाकिस्तान ने वादा किया है कि वह अच्छे और खराब आतंकवादियों के बीच अंतर बंद कर उनके खिलाफ कार्रवाई को अंजाम देगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in