पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

नीतीश कटारा हत्याकांड में दोषियों की सज़ा बढ़ी

नीतीश कटारा हत्याकांड में दोषियों की सज़ा बढ़ी

नई दिल्ली. 6 फरवरी 2015
 

katara murder

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को विकास यादव और उसके चचेरे भाई विशाल यादव को नीतीश कटारा हत्याकांड में 30 साल कैद की सजा सुनाई है. विकास और विशाल को हत्या के लिए 5 साल की कैद, जबकि सबूत नष्ट करने के लिए पांच साल की कैद सुनाई है. ये दोनों सजाएं साथ-साथ चलेंगी. न्यायालय में थे न्यायमूर्ति गीता मित्तल और न्यायमूर्ति जे.आर. मिधा की विशेष पीठ ने प्रत्येक पर 54 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

न्यायालय ने कहा कि दोषियों को सजा में कोई छूट नहीं मिलेगी. नीतीश विकास की बहन के मित्र इस मामले में विकास, विशाल तथा सुखदेव पहलवान को मृत्युदंड देने की पुलिस तथा नीतीश कटारा की मां की अपील खारिज कर दी.

इस मामले में न्यायालय ने पहलवान को 25 साल की जेल की सजा तथा 20 हजार रुपये का जुर्माना किया है. पीठ ने कहा कि दोषियों को सजा में कोई छूट नहीं मिलेगी. विकास तथा विशाल के वकील ने कहा कि इस फैसले के खिलाफ वह सर्वोच्च न्यायालय जाएंगे. पीठ ने कहा है कि तीनों हत्यारों को मृत्युदंड की मांग करने वाली नीतीश कटारा की मां नीलम कटारा को यादव बंधुओं से मुआवजे के तौर पर 40 लाख रुपये मिलेंगे.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक, विकास यादव तथा विशाल यादव ने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के एक विवाह समारोह से नीतीश कटारा को अगवा किया और 17 फरवरी, 2002 की रात उसकी हत्या कर दी. दोनों अपनी बहन भारती से कटारा की दोस्ती का विरोध करते थे.

विकास तथा विशाल को साल 2008 में कटारा की हत्या के लिए दोषी ठहराया गया था. कटारा के पिता भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के एक अधिकारी रहे हैं.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in