पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय > Print | Share This  

पुष्कर हत्याकांड: मेहर तरार से पूछताछ संभव

पुष्कर हत्याकांड: मेहर तरार से पूछताछ संभव

नई दिल्ली. 12 मार्च 2015
 

मुख्तार अब्बास नकवी

सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की हत्या मामले में पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार से पूछताछ की जा सकती है. यह जानकारी गुरुवार को पुलिस ने दी. माना जाता है कि थरूर और तरार के बीच गहरी दोस्ती थी.

इस बारे में पूछे जाने पर तरार ने भारत आकर जांच से जुड़ने की बात को नकार दिया लेकिन जांच में सहयोग करने की इच्छा जताई. तरार ने समाचार चैनल सीएनएन-आईबीएन से फोन पर बातचीत में कहा, "दिल्ली पुलिस के पास मेरे लिए जो भी सवाल हैं मैं उनके जवाब देना पसंद करूंगी लेकिन मैं जांच के लिए भारत नहीं आऊंगी."

47 वर्षीय मेहर तरार ने कहा कि वह भारत आने के लिए तैयार नहीं हैं लेकिन पुलिस के सवालों के जवाब देते हुए उन्हें खुशी होगी. उन्हें इस मामले से जोड़ने के सवाल पर तरार ने कहा, "मेरी सबसे बड़ी गलती यह थी कि मैंने सुनंदा को ट्विटर पर जवाब दिया."

उन्होंने कहा, "अगर मुझ से कुछ पूछा जाएगा तो मैं इसे दिल्ली पुलिस के साथ साझा करूंगी. लेकिन अभी तक दिल्ली पुलिस की ओर से किसी ने भी मुझ से संपर्क नहीं किया है." मेहर ने कहा कि पिछले एक साल से उनके और थरूर के बीच कोई बातचीत नहीं हुई है. माना जाता है कि थरूर और तरार के बीच की दोस्ती के कारण ही सुनंदा और थरूर के रिश्तों में दूरियां आई थीं.

सुनंदा को 17 जनवरी, 2014 को दिल्ली के लीला पैलेस होटल में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाया गया था. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में एक जनवरी, 2015 को हत्या का मामला दर्ज करने के बाद एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया था.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in