पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

केजरीवाल खेमे की योगेंद्र यादव से मुलाकात

केजरीवाल खेमे की योगेंद्र यादव से मुलाकात

नई दिल्ली. 17 मार्च 2014
 

आप

आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं के बीच मतभेदों दूर करने और पार्टी के भीतर आई दरार पाटने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विश्वासपात्रों ने पार्टी के असंतुष्ट नेता योगेंद्र यादव से मुलाकात की है.  आप नेताओं -संजय सिंह, कुमार विश्वास तथा आशीष खेतान- ने यादव के आवास पर उनसे मुलाकात की और उन मुद्दों पर चर्चा की, जिसकी वजह से योगेंद्र यादव व प्रशांत भूषण को पार्टी के शीर्ष निकाय से निष्कासित किया गया.

बेंगलुरू में 10 दिनों तक प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति से इलाज कराकर केजरीवाल के दिल्ली लौटने के बाद सोमवार रात यह मुलाकात हुई. इस मुलाकात में केजरीवाल शामिल नहीं थे.

पार्टी नेता संजय सिंह ने संवाददाताओं से कहा, "हम मिले तथा मुद्दों पर चर्चा की. अगर कुछ रचनात्मक होता है, तो आपको जरूर बताया जाएगा."

 

जानकार सूत्रों ने कहा, "एक घंटे तक चली बैठक के दौरान यादव को कुछ मुद्दों पर केजरीवाल की नाराजगी से अवगत कराया गया, जिसके कारण पार्टी में मनमुटाव खुलकर सामने आ गया."

यादव ने कहा, "बैठक अच्छी रही. हम बातचीत को जारी रखेंगे और किसी निष्कर्ष तक पहुंचने पर मीडिया को सूचित करेंगे." सूत्रों के मुताबिक, केजरीवाल गुट के प्रशांत भूषण से भी मिलने की संभावना है. भूषण ने केजरीवाल के जल्द स्वस्थ होने की कामना की थी और कहा था कि उन्होंने पार्टी के मुद्दों पर चर्चा की योजना बनाई है और अंदरूनी दरार को सुलझाने का वह प्रयास करेंगे.

दिल्ली में आप के सत्तासीन होने के एक पखवाड़े के भीतर ही आप में आंतरिक तौर पर भारी उथल-पुथल मच गया. पार्टी ने यादव व भूषण को राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) से निष्कासित कर दिया. पार्टी की इस कार्रवाई के बाद दरार और चौड़ी हो गई. यादव व भूषण ने आप में आंतरिक लोकतंत्र की जरूरत का हवाला दिया.


 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in