पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

जर्मन अखबार पर आतंकी हमला

आडवाणी-जोशी के खिलाफ नोटिस

नई दिल्ली. 31 मार्च 2015
 

आडवाणी

सर्वोच्च न्यायालय ने साल 1992 में अयोध्या में विवादित ढाचा ढहाए जाने के मामले में मंगलवार भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी तथा 17 अन्य को नोटिस जारी किया. इन दोनों नेताओं के अलावा, केंद्रीय मंत्री उमा भारती तथा राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को भी नोटिस जारी किया गया है. कल्याण सिंह उस वक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे.

न्यायालय ने यह नोटिस इलाहाबाद उच्च न्यायालय के उस फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर दिया है, जिस फैसले में विवादित ढाचा ढहाए जाने के 1992 के मामले में उन्हें आपराधिक साजिश के आरोप से बरी कर दिया गया था. इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस मामले में 20 मई, 2010 को इन नेताओं को साजिश रचने के आरोपों से मुक्त कर दिया था.

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने न्यायालय को बताया कि हाजी महबूब अहमद ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ एक नई याचिका दायर की है, जिसके बाद प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एच.एल.दत्तू तथा न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने ये नोटिस जारी किए.

न्यायालय ने आडवाणी तथा अन्य को आपराधिक षड्यंत्र से मुक्त करने वाले इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को अपने पक्ष में दस्तावेज जुटाने के लिए चार सप्ताह का समय दिया. अतिरिक्त महाधिवक्ता नीरज किशन कौल ने सर्वोच्च न्यायालय को बताया कि सीबीआई उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका को दायर करने में हुई देरी के बारे में पहले ही एक हलफनामा दाखिल कर चुकी है.

मसौदा तैयार करने व केंद्र सरकार के वरिष्ठ कानून अधिकारी से मंजूरी लेने के मद्देनजर, सीबीआई द्वारा याचिका दाखिल करने में हुए विलंब पर टिप्पणी करते हुए न्यायमूर्ति एच.एल.दत्तू तथा न्यायमूर्ति जगदीश सिंह केहर की तत्कालीन पीठ ने चार फरवरी, 2013 को सरकार से कहा था कि विलंब के कारणों पर वह एक हलफनामा दाखिल करे.

न्यायालय ने सीबीआई को चार सप्ताह का समय दिया और कहा कि वह कानून, याचिका दायर करने में हुई देरी और गुण-दोष के आधार पर सुनवाई करेगा.

इस मामले में आडवाणी, जोशी, कल्याण सिंह, उमा के अतिरिक्त विनय कटियार, विश्व हिंदू परिषद के नेता अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, हरि डालमिया, साध्वी ऋतंभरा, महंत अवैद्यनाथ को भी आरोपी बनाया गया था. चूंकि गिरिराज किशोर और महंत अवैद्यनाथ का निधन हो चुका है, लिहाजा आरोपियों की सूची से इनके नाम हटा दिए जाएंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in