पहला पन्ना > मुद्दा > छत्तीसगढ़ Print | Send to Friend | Share This 

अरुंधती के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

अरुंधती के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई

रायपुर. 12 अप्रैल 2010


सुप्रसिद्ध लेखिका अरुंधती राय के खिलाफ छत्तीसगढ़ पुलिस कानूनी कार्रवाई कर सकती है. उनके खिलाफ अनलॉफुल ऐक्टिविटिज (प्रिवेंशन) ऐक्ट (यूएनपीए) के तहत कार्रवाई हो सकती है. यह भी संभव है कि उन्हें छत्तीसगढ़ जन सुरक्षा कानून का सामना करना पड़े.

पिछले दिनों अरुंधती राय ने छत्तीसगढ़ के बस्तर में नक्सलियों के साथ मुलाकात और कुछ समय गुजारने के बाद अंग्रेजी-हिंदी की पत्रिका ‘आउटलुक’ में विस्तार से एक रिपोर्ट लिखी थी. इस रिपोर्ट की शिकायत रायपुर के एक नागरिक ने राज्यपाल, मुख्यमंत्री, राज्य के पुलिस महानिदेशक को करने के साथ-साथ स्थानीय पुलिस थाने में भी दर्ज करायी थी. शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा है कि छत्तीसगढ़ में जनसुरक्षा कानून 2005 लागू है, जिसके तहत भाकपा माओवादी जैसे प्रतिबंधित संगठनों से बातचीत, मेल मिलाप पर कार्रवाई का प्रावधान है.

शिकायतकर्ता ने जानना चाहा है कि बस्तर जाने के पहले अरुंधति राय ने क्या राज्य शासन से अनुमति ली थी, या वहां से लौटने के बाद उन्होंने कोई रिपोर्ट राज्य शासन को दी. अगर यह दौरा बिना अनुमति के था, तो इस पर कार्रवाई होनी चाहिए.

सूत्रों के अनुसार इस शिकायत के आलोक में पुलिस ने एसआईबी को मामला सौंपा है, जहां यह देखा जा रहा है कि क्या सुश्री राय ने नक्सलियों को अपनी रिपोर्ट में महिमामंडित करने का काम किया है ? क्या उनके द्वारा लिखी गयी रिपोर्ट राज्य और राष्ट्र के कानून का उल्लंघन है ?