पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना > > Print | Share This  

मसरत की गिरफ्तारी पर भड़की हिंसा

कश्मीर: फायरिंग में युवक की मौत, हालात बिगड़े

श्रीनगर. 18 अप्रैल 2015
 

मसरत आलम

जम्मू एवं कश्मीर के बडगाम जिले में शनिवार को नरबल गांव में पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षा बलों की गोलीबारी में सुहेल अहदम सोफी नामक एक किशोर की मौत हो गई. वहीं हिंसाग्रस्त गांव का दौरा करने जा रहे सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश व कट्टरपंथी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को एहतियातन हिरासत में ले लिया गया.

पुलिस ने एक बयान में स्वीकार किया कि नरबल गांव में पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी करने वाले पुलिसकर्मियों ने मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का उल्लंघन किया. इस गोलीबारी में एक किशोर की मौत हो गई थी. पुलिस ने कहा, "प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर उतरकर कई वाहनों में तोड़फोड़ भी की."

पुलिस ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने यहां से 18 किलोमीटर दूर श्रीनगर-गुलमर्ग मार्ग पर बडगाम के नरबल गांव में शनिवार सुबह सुरक्षा बलों पर पथराव किया. लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़ने के बाद भी जब प्रदर्शनकारी भीड़ पर काबू नहीं पाया जा सका, तब सुरक्षा बलों ने गोलीबारी का सहारा लिया.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि गोली लगने के बाद सोफी को श्रीनगर के झेलम वैली अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

प्रदर्शनकारियों ने श्रीनगर-गुलमर्ग मार्ग जाम कर दिया है और वे किशोर के शव के साथ सड़क पर बैठे हैं. प्रदर्शनकारियों व मृतक किशोर के परिजनों का कहना है कि उसे तबतक नहीं दफनाया जाएगा, जबतक गोलीबारी के जिम्मेदार पुलिसकर्मियों की पहचान कर उन्हें न्याय के कठघरे में नहीं लाया जाता.

इलाके में किशोर के मौत की खबर फैलते ही नरबल में हालात तनावपूर्ण हो गए हैं. नरबल में यह प्रदर्शन अलगाववादी नेता मसरत आलम की गिरफ्तारी के खिलाफ अलगाववादी नेता सैयद अली गिलानी के कश्मीर घाटी बंद के आह्वान के मद्देनजर किया जा रहा था.

कश्मीर घाटी में विस्थापित कश्मीरी पंडितों के लिए समग्र टाउनशिप के विरोध में श्रीनगर शहर के मैसुमा इलाके में जेकेएलएफ कार्यकर्ताओं के साथ मलिक तथा अग्निवेश सुबह में एक सांकेतिक भूख हड़ताल पर बैठे. किशोर के मारे जाने के विरोध में उत्तरी कश्मीर के सोपोर से भी प्रदर्शन की खबरें आई हैं.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in