पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

भाजपा में शामिल हुईं किरण बेदी

रामदेव की पुत्रजीवक दवा पर बवाल

नई दिल्ली. 30 अप्रैल 2015
 

रामदेव

स्वामी रामदेव की दिव्य फार्मेसी के द्वारा पुत्र पैदा करने की दवा 'दिव्य पुत्रजीवक' बेचे जाने के मुद्दे पर गुरुवोर को राज्यसभा में जमकर बवाल हुआ. सदन की कार्यवाही शुरू होते ही इस मुद्दे को जनता दल-युनाइटेड (जद-यू) के सदस्य के.सी. त्यागी ने उठाया और जांच की मांग की.

त्यागी ने दिव्य फार्मेसी (हरियाणा) के उत्पाद 'दिव्य पुत्रजीवक' दिखाते हुए कहा, "प्रधानमंत्री ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का आह्वान किया है और बाबा रामदेव बेटी नहीं, बेटा पैदा करने पर जोर दे रहे हैं, इसके लिए दवा बनाकर बेच रहे हैं, यह कैसा विरोधाभास है." उन्होंने सदन से कहा, "मैंने इसे आप लोगों को दिखाने के लिए खरीदा है और इसकी रसीद भी लाया हूं. कोई इसे पुराना माल नहीं कह सकता."

त्यागी ने कहा, "क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारत सरकार ने बाबा रामदेव को ऐसी चीजें बेचने की स्वीकृति दी है?" गौरतलब है कि दिव्य फार्मेसी रामदेव की दवाएं बेचती है.

इस मामले पर अपनी सरकार का बचाव करते हुए स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने हुए कहा, "यह मामला आयुष (आयुर्वेद, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा, सिद्धा तथा होमियोपैथी) विभाग से संबंधित है. सरकार मामले को लेकर गंभीर है. हम इस मामले को देखेंगे और कार्रवाई करेंगे." उन्होंने ये भी कहा कि प्रधानमंत्री मोदी 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' योजना को व्यक्तिगत रूप से देख रहे हैं.

इस मामले में बैकफुट पर आई पतंजलि योगपीठ ने बाद में एक बयान जारी कर कहा कि सदस्य जानकारी व व्यक्तिगत हितों के अभाव में आयुर्वेद को बदनाम कर रहे हैं. बयान के मुताबिक, "आयुर्वेद में तो सच्चाई यही है कि बांझपन से पीड़ित लोग सदियों से पुत्रजीवक का इस्तेमाल करते आ रहे हैं."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in