पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > अंतराष्ट्रीय > समाज Print | Send to Friend | Share This 

चीन में भूकंप, सैकड़ों हताहत

चीन में भूकंप, सैकड़ों हताहत

बीजिंग. 15 अप्रैल 2010


तिब्बत के पठारी इलाके में बुधवार को आये भूकंप में अब तक 400 से अधिक लोगों के मारे जाने की खबर है. दक्षिण-पश्चिमी चीन के पहाड़ी क्षेत्र में आये इस भूकंप में हजारों की संख्या में मकान ढ़ह गये हैं. इस घटना में दस हजार से अधिक लोग घायल हुये हैं. सरकारी सूत्रों ने हताहतों की संख्या बढ़ने से इंकार नहीं किया है.

सरकारी सूत्रों के अनुसार बुधवार को आये इस भूकंप से चीन का एक बड़ा हिस्सा प्रभावित हुआ है. चीन में भूकंप के दो झटके महसूस किये गये. चीन के छिंगहाई प्रांत के यू-शु तिब्बती स्वायत्त प्रिफेक्चर की यू-शु काउंटी में 7.1 तीव्रता वाला भूकंप आया, जिस से जान-माल की भारी क्षति पहुंची है. भूकंप के केंद्र याशू काउंटी में 80 प्रतिशत मकान ध्वस्त हो गए हैं. जीएगु शहर में पानी और बिजली आपूर्ति बाधित हो गई है.

रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 7.1 के आसपास मापी गयी है. सरकार ने प्रभावित इलाके में सेना की मदद से भूकंप राहत का काम शुरु कर दिया है. हालांकि बहुत कम तापमान के कारण इलाके में राहत कार्य में परेशानी हो रही है लेकिन सरकार ने उम्मीद जताई है कि सेना के जवान मौसम का मुकाबला करते हुए राहत पहुंचाने में सफल रहेंगे.

चीन के सरकारी रेडियो के अनुसार चीन के राष्ट्राध्यक्ष हू चिंग-थाओ,जो अभी विदेशों के दौरे पर हैं और प्रधान मंत्री वन चा-बाओ ने अलग-अलग तौर पर संदेश भेजकर मांग की है कि भूकंप पीड़ितों को हरसंभव बचाया जाये और मदद दी जाए, भूकंप की निगरानी व भविष्यवाणी को मजबूत किया जाए. चीन के उपप्रधान मंत्री ह्वई ल्यांग-य्वी राहत व बचाव कार्य का निर्देशन करने के लिए भूकंपग्रस्त क्षेत्र पहुंच चुके हैं.

सेना,पुलिस-बल और चिकित्सों से गठित 5000 सदस्यीय दल भूकंपग्रस्त क्षेत्र पहुंच चुका है.तिब्बत स्वायत्त प्रदेश ने सब से पहले वहां अपना राहत-दल भेजा है. पेइचिंग स्थित राजकीय भूकंप बचाव दल के 110 सदस्य और छंगतु से भूगर्भ सर्वेक्षण देल के 100 सदस्य आवश्यक साजोसामान के साथ विमानों से भूकंपग्रस्त क्षेत्र के लिए रवाना हुए हैं. चीनी राजकीय विकास व सुधार आयोग ने 5 करोड़ य्वान का विशेष अनुदान किया,जिस का भूकंपग्रस्त क्षेत्र में राहत व बचाव और पुनर्निमार्ण-कार्य में प्रयोग किया जाएगा. राजकीय आपदा-कटौती कमेटी और नागरिक मामला मंत्रालय ने राष्ट्रीय आपदा-प्रबंधन की व्यवस्था के तहत भूकंपग्रस्त क्षेत्र में राहत-सामान भेजे हैं. चीनी रेड क्रॉस सोसाइटी ने भी 11 लाख य्वान मूल्य की राहत सामग्रियां भेजी हैं, जिनमें तंबू ,रजाईयां और कपासवाले मोटे कपडे शामिल हैं.

ज्ञात रहे कि चीन में यह दूसरा बड़ा भूकंप था. इससे पहले 2008 में आये भूकंप में 90 हजार लोग मारे गये थे.

[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in