पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

मुस्लिम होने पर युवक को नहीं दी नौकरी

मुस्लिम होने पर युवक को नहीं दी नौकरी

मुंबई. 21 मई 2015
 

जीशान अली

मुंबई में एक प्रमुख हीरा कंपनी द्वारा एक युवक को मुस्लिम होने की वजह से नौकरी देने से इनकार करने का मामला सामने आया है. कंपनी के इस भेदभावपूर्ण रवैये से नाराज़ जीशान अली खान नामक इस युवक ने कंपनी पर 'धार्मिक भेदभाव' का मामला दर्ज कराया है.

एमबीए कर चुके जीशान अली खान ने बताया, "हां, मैंने इस मुद्दे पर विनोबा भावे नगर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. इस मामले में पुलिस सबूत जुटा रही है."

उसने बांद्रा-कुर्ला कांप्लेक्स स्थित एक हीरा एक्सपोर्ट कंपनी हरिकृष्णा एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड में नौकरी के लिए आवेदन किया था. उसके कई अन्य दोस्तों ने भी इस नौकरी के लिए आवेदन किया था और उन्हें कंपनी ने नौकरी पर रख भी लिया, क्योंकि वे हिंदू थे.

जीशान ने कहा कि वह कंपनी के जवाब से हैरान था. कंपनी ने उसके आवेदन के जवाब में लिखा था, "आपके आवेदन के लिए शुक्रिया. हमें आपको बताते हुए अफसोस हो रहा है कि हम सिर्फ गैर-मुस्लिम उम्मीदवारों को काम पर रखते हैं."

जीशान ने जब कंपनी का वह जवाब अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया, तो कई लोगों ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी. वहीं,

कंपनी ने इस मामले पर खेद जताया है. कंपनी के मानव संसाधन विभाग के प्रमुख एवं एसोसिएट उपाध्यक्ष महेंद्र एस. देशमुख ने खेद नोट में लिखा, "हम स्पष्ट करना चाहेंगे कि कंपनी लिंग, जाति, धर्म आदि के आधार पर उम्मीदवारों के साथ भेदभाव नहीं करती है. इस मामले के कारण किसी भी तरह की तकलीफ होने पर खेद है."

देशमुख ने सारा दोष एक प्रशिक्षु सहकर्मी दीपिका टिके के सिर मढ़ दिया. उनका दावा है कि गलत ईमेल उसी ने भेजा. माना जा रहा है कि राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने इस मामले की रिपोर्ट मांगी है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in